Sur Ganga Music festival-कमिश्नर की चेतावनी के बाद कैलाश खेर का कार्यक्रम रद

Sur Ganga Music festival-कमिश्नर की चेतावनी के बाद कैलाश खेर का कार्यक्रम रद
Sankat Mochan Sangeet Samaroh and Surgana

95 साल पुराने संकट मोचन संगीत समारोह से टकरा रही थी सुर गंगा म्यूजिक फेस्टिवल की तिथियां. कमिश्नर ने कहा परंपरा का रखा जाए ध्यान, तिथियां क्लैश न करें।

डॉ. अजय कृष्ण चतुर्वेदी


वाराणसी.
सुरगंगा म्यूजिक फेस्टिवल के आयोजकों को बड़ा झटका लगा है। उनके 18 अप्रैल के उद्घाटन कार्यक्रम में होने वाला प्लेबैक सिंगर कैलाश खेर का कार्यक्रम स्थगित कर दिया गया है। कमिश्नर की चेतावनी के बाद आयोजकों को मजबूरी में यह निर्णय लेना पड़ा है। अब 18 अप्रैल को महज औपचारिक उद्घाटन कार्यक्रम ही होगा। कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण ने पत्रिका से बातचीत में स्वीकार किया कि उन्होंने कहा है कि संकट मोचन संगीत समारोह के कार्यक्रम से सुर गंगा म्यूजिकल कंसर्ट का कार्यक्रम किसी सूरत में क्लैश नहीं होना चाहिए। कमिश्नर की इस चेतावनी के बाद म्यूजिकल कंसर्ट के आयोजक सन्नाटे में आ गए। इतना ही नहीं सूत्रों की मानें तो ख्याति प्राप्त सितार वादक नीलाद्री कुमार ने भी सुरगंगा के कार्यक्रम में अपनी भागीदारी से इंकार कर दिया है।


ये भी पढ़ें- गंगा जमुनी तहजीब की मिसाल है संकट मोचन संगीत समारोह

बता दें कि 95 साल पुराना संकट मोचन संगीत समारोह 15 अप्रैल से शुरू हो रहा है और यह 20 अप्रैल तक चलेगा। इस संगीत समारोह की न केवल बनारस बल्कि दुनिया भर में शोहरत है। देश ही नहीं अपितु विदेशों से भी इस समारोह के लिए अंतर्राष्ट्रीय ख्याति के कलाकार संकट मोचन मंदिर में हनुमत दरबार में अपनी प्रस्तुति पवनसुत हनुमान को अर्पित करने के लिए हर साल आते हैं। इस बार भी अफगानिस्तान से लेकर देश के कोने-कोने से बड़े संगीतकारों अपनी प्रस्तुति देने आ रहे हैं। यह सब जानते हुए भी स्थानी एक टीवी चैनल और नगर निगम ने मिल कर 45 दिन चलने वाला एक सुरगंगा म्यूजिकल कंसर्ट संकट मोचन संगीत समारोह के बीच ही शुरू करने का फैसला कर लिया। इसके लिए संकट मोचन फाउंडेशन के लोगों ने सुरगंगा के आयोजकों से अपने कार्यक्रम की तिथि आगे बढ़ाने की अपील की। लेकिन उन्होंने इससे इंकार कर दिया था। इसके बाद दिल्ली में जनता दल यूनाइटेड के राष्ट्रीय सचिव अरुण कुमार श्रीवास्तव तथा सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ताओं का प्रतिनिधिमंडल यूनेस्को के भारत स्थित कार्यालय जाकर भी इस कार्यक्रम की तिथि आगे सरकाने की मांग की थी। उसके बाद संकटमोचन संगीत समारोह के आयोजकों को यह जानकारी मिली कि यूनेस्को के अंतर्राष्ट्रीय व भारतीय पदाधिकारियों ने भी इस पर चिंता व्यक्त करते हुए कार्यक्रम की तिथियों पर विचार कर रहा है। बतादें कि इस आयोजन से यूनेस्को का भी जुड़ाव है।


ये भी पढ़ें- दिल्ली पहुचा संकट मोचन संगीत समारोह और सुरगंगा म्यूजिक कंसर्ट विवाद

 लेकिन इसी बीच कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण ने बुधवार को सुरगंगा के आयोजकों संग बैठक की। इस दौरान उन्होंने साफ तौर पर कहा कि संकट मोचन संगीत समारोह से सुरगंगा म्यूजिकल कंसर्ट के कार्यक्रम क्लैश न करने पाएं। इस पर सुरगंगा के आयोजकों ने बताया कि 18 अप्रैल को महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में औपचारिक उद्घाघटन समारोह होना है। इस पर कमिश्रनर ने उन्हें सलाह दी कि कार्यक्रम का औपचारिक उद्घाटन कर लें पर कोई सांस्कृतिक कार्यक्रम न करें। सूत्र बताते हैं कि कमिश्नर ने तो यहां तक कहा कि संकट मोचन संगीत समारोह का कार्यक्रम 20 अप्रैल तक है ऐसे में आप लोग 21 से पहले कोई सांस्कृतिक आयोजन न करें। इसके बाद सुरगंगा के आयोजकों ने उद्घाटन समारोह में प्लेबैक सिंगर कैलाश खेर के कार्यक्रम को स्थगित कर दिया।


Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned