Varanasi Tragedy: चाहते थे बेटे को इंजीनियर बनाना, हादसे ने दे दी मौत

इकलौते बेटे ने देखा था इंजीनियरिंग का ख्वाब, जा रहा था बेहतर कोचिंग को, पिता संग चली गई जान। और इनकी नई गाड़ी का सपना ही हो गया चूर।

By: Ajay Chaturvedi

Published: 16 May 2018, 05:08 PM IST

वाराणसी. चौकाघाट फ्लाइओवर हादसे ने यूं तो 18 जान ली है, लेकिन इस घर का तो चिराग ही बुझ गया। होनहार बेटा जिसने देखा था इंजीनियर बनने का ख्वाब मगर कुछ इंजनियरों की लापरवाही ने उसकी जान ले ली। इतना ही नहीं हादसे में इस लाड़ले के पिता भी नहीं रहे। मां बीएचयू के ट्रामा सेंटर में जीवन-मृत्यु के बीच संघर्ष कर रही हैं। उन्हें जब भी होश आता है वो बस बेटे और पति के बारे में पूछ रही हैं।

छपरा जिले के रसूलपुर क्षेत्र के टेसुआर गांव के मूल निवासी राम बहादुर सिंह (45 वर्ष) और पत्नी कुमकुम सिंह बेटे कुमार वैभव को लेकर कोटा भेजने वाले थे। कुमकुम बनारस के कंचनपुर की रहने वाली हैं। तीनों एक साथ निकले थे कैंट स्टेशन। कैंट पहुंचते उससे पहले ही फ्लाइओवर हादसे का शिकार हो गए। बेटा यहीं केंद्रीय विद्यालय कंचनपुर का छात्र था।


ये तीनों कार से जा रहे थे जैसे वे कमलापति ब्वायज इंटर कॉलेज के पास पहुंचे कि यह हादसा हुआ जिसमें निर्माणाधीन फ्लाइओवर का बीम उनकी कार पर आ गिरा जिसमें दबकर पिता-पुत्र की घटना स्थल पर ही मौत हो गई। हादसे की सूचना मिलते ही गांव में मातमी सन्नाटा छा गया। बता दें कि रामबहादुर सिंह सेना से सेवानिवृत्त होने के बाद बैंक में बतौर मैनेजर काम करते थे। वो तीन भाई और एक बहन में दूसरे नम्बर पर थे।

 

आर बी सिंह

उधर नक्खीघाट, पांडेयपुर निवासी रिंकू निकले थे नई गाड़ी खरीदने। घर पर सब लोग खुश थे, उनके घर नई गाड़ी आ रही थी। तरह-तरह के प्लान बन रहे थे। रिंकू सिंह अपने एक रिश्तेदार के साथ गाड़ी लेने गए थे। लेकिन शाम को उनके घर गाड़ी तो नहीं पहुंची पर जो संदेश पहुंचा उसने सबको हिला कर रख दिया। दरअसल रिंकू और उनके रिश्तेदार नई गाड़ी लेकर जैसे ही कैट स्टेशन के पास पहुंचे कि हादसा हो गया जिसकी चपेट में वे भी आ गए। फ्लाइओवर का बीम उनकी नई गाड़ी पर गिर गया। गनीमत यह है कि गाड़ी तो चकनाचूर हो गई पर दोनों की जिंदगी बच गई है। दोनों अस्पताल में जीवन के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

 

Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned