वाराणसी. उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले के ब्लाक चिरईगाँव के खरगीपुर प्रथमिक विद्यालय के समीप बुधवार दोपहर शारदा सहायक नहर का तटबंध टूटने से करीब पचास एकड़ गेहूं की फसल जलमग्न हो गई। तटबंध टूटने से लगभग दो दर्जन किसान प्रभावित हुए हैं। मौके पर पहुंचे सीजपाल का कहना है कि अधिकारियों को अवगत करा दिया गया है।

 

इस संबंध में किसानों का कहना है कि जब सिंचाई की जरूरत होती है तो नहर में पानी नहीं आता। वहीं जब फसल पककर तैयार हो जाती है तो नहर में क्षमता से अधिक पानी छोड़ दिया जाता है। जिसका खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ता है।


दर्जन भर से अधिक किसान प्रभावित


नहर का तटबंध टूटने से करीब दर्जन भर किसान प्रभावित हुए है। तरयाँ के लालू ,राजनाथ बब्बन,मुड़ली,के सुखा देबी,परदेशी,केदारनाथ,उमरहाँ के श्यामजी पटेल आदि किसानों की फसल नहर के पानी से डूब गयी।


किसानों में रोष, मुआवजे की मांग


नहर का तटबंध टूटने से प्रभावित किसानों का कहना है कि नहर टूटने के बाद कोई आधिकारी मौके पर जायजा लेने नहीं पहुंचा। किसानों ने बड़ी मुश्किल में नहर के पानी को गेंहू के खेत में जाने से रोका। किसान में नहर टूटने के बाद किसी अधिकारी के मौके पर न पहुंचने से रोष ब्याप्त है। किसानों ने मुआवजे की मांग की है।

 

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned