BREAKING NEWS आप पर भारी पड़ी हेकड़ी, काननूी पचड़े में फंसे संजय सिंह

निषेधाज्ञा के मामले में लंका थाने में एफआईआर

वाराणसी. आम आदमी पार्टी राजनीति और कानून में फर्क नहीं कर पाई जिसका खामियाजा पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ ही आम कार्यकर्ताओं को भी भुगतना पड़ेगा।  वाराणसी जिले में लागू निषेधाज्ञा के बीच प्रशासनिक इजाजत के बगैर लंका क्षेत्र में सभा व सदबुद्धि यज्ञ करना आम आदमी पार्टी को भारी पड़ सकता है। लंका पुलिस ने जिला प्रशासन के निर्देश पर आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता व यूपी के प्रभारी संजय सिंह, सांसद भगवंत सिंह मान समेत 12 नेताओं के खिलाफ नामजद व ढाई सौ अज्ञात के खिलाफ धारा 144 को तोडऩे के आरोप में धारा 188 के तहत मुकदमा कायम किया है। पुलिस ने वाराणसी में रहने वाले आरोपियों की धरपकड़ के लिए कार्रवाई भी शुरू कर दी है। 
गौरतलब है कि रविवार को आप ने लंका थाना क्षेत्र में रविदास गेट के समीप भाजपा समेत अन्य दलों के नेताओं को बुद्धि देने के लिए सदबुद्धि यज्ञ का आयोजन किया था। साथ ही आप की ओर से धरना-प्रदर्शन भी किया। जिला प्रशासन ने आम आदमी पार्टी को पहले ही चेतावनी दे दी थी कि बिना अनुमति के कार्यक्रम आयोजन पर कार्रवाई हो सकती है। जिला प्रशासन की चेतावनी को दरकिनार कर धरना-प्रदर्शन करना आप के नेताओं को अब अदालती चक्कर लगाने पर मजबूर करेगा। गौरतलब है कि बीते माह मई में बीएचयू के छात्रों ने चौबीस घंटे लाईब्रेरी खोलने की मांग को लेकर अभियान चलाया था। आप कार्यकर्ताओं ने छात्रों के समर्थन में बीएचयू परिसर के भीतर प्रदर्शन किया था। आरोप है कि इस दौरान एबीवीपी के कार्यकर्ताओं व प्राक्टोरियल बोर्ड के सुरक्षाकर्मियों ने मिलकर आप कार्यकर्ताओं की पिटाई की थी। इस घटना को लेकर यूपी के प्रभारी संजय सिंह ने पहले ही 19 जून को प्रदर्शन का एलान किया था। आप कार्यकर्ताओं ने आयोजन के लिए जिला प्रशासन में आवेदन किया था लेकिन एलआईयू की रिपोर्ट पर जिला प्रशासन ने कार्यक्रम की अनुमति नहीं दी थी। 
AAP
Show More
Vikas Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned