scriptFive deaths in a week in mental hospital stir | मानसिक चिकित्सालय में एक सप्ताह में पांच मौत, हड़कंप, कलेक्टर ने उठाया सख्त कदम | Patrika News

मानसिक चिकित्सालय में एक सप्ताह में पांच मौत, हड़कंप, कलेक्टर ने उठाया सख्त कदम

वाराणसी के पांडेयपुर स्थित मानसिक चिकित्सालय में एक सप्ताह में पांच मौत के बाद से हड़ंकप मचा है। लगातार हो रही मौत के बाद कलेक्टर कौशल राज शर्मा ने कड़े कदम उठाए हैं। उन्होंने एडीएम प्रोटोकॉल व मुख्य चिकित्साधिकारी को जांच सौंपी है। उधर सीटीओ को भी वित्तीय मामलों की जांच सौंपी गई है। कलेक्टर ने कहा है कि जांच रिपोर्ट के आधार पर दोषियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई होगी।

वाराणसी

Updated: June 16, 2022 05:08:09 pm

वाराणसी. जिले के पांडेयपुर स्थित मानसिक चिकित्सालय में लगातार हो रही मौत से स्वास्थ्य महकमे से लेकर जिला प्रशासन तक में हड़कंप मचा है। बता दें कि हफ्ते भर में ही इस मानसिक चिकित्सालय में पांच लोगों की मौत हो चुकी है। इतना ही नहीं एक बंदी को चिकित्सालय के सुरक्षा घेरे को तोड़ कर भाग भी चुका है। ऐेसे में अस्पताल की दुर्व्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए खुद कलेक्टर कौशल राज शर्मा ने कमान संभाल रखी है। उन्होंने स्पष्ट तौर पर कहा है कि मामले की जांच कराई जा रही है। तीन सदस्यीय कमेटी गठित कर दी गई है। जांच रिपोर्ट आते ही दोषियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई होगी। इस बीच स्टोर इंचार्ज को निलंबित कर दिया गया है। साथ ही जिले के मुख्य कोषाधिकारी ने वित्तीय मामलों की जांच भी शुरू कर दी है।
पांडेयपुर मानसकि चिकित्सालय
पांडेयपुर मानसकि चिकित्सालय
हफ्ते भर में पांच मौत

मानसिक चिकित्सालय में भर्ती मरीजों की मौत का सिलसिला जारी है। बता दें कि हफ्ते भर में पांच लोगों की मौत हो चुकी है। बता दें कि मंगलवार को सारनाथ क्षेत्र की श्रेया (34) की मौत हो गई थी। श्रेया की मौत की सूचना मिलते ही उसके परिजनों ने मानसिक अस्पताल की निदेशक डॉ. लिली श्रीवास्तव और इलाज करने वाले डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा भी किया था। उसके कुछ ही देर बाद आजमगढ़ से आए एक अन्य 50 वर्षीय मरीज की मौत हो गई। उसे आजमगढ़ के न्यायिक मजिस्ट्रेट के आदेश से भर्ती कराया गया था। फिर अगले ही दिन यानी नौ जून को बांदा से आए बंदी राहुल उपाध्याय की मौत हो गई। इसके एक ही दिन बाद बस्ती जिले के प्राइवेट मरीज दिलीप मिश्रा की मौत हो गई।
रात में अस्पताल में नही रहते डॉक्टर

मानसकि अस्पताल में बुधवार को भी एक महिला मरीज ने अपना दम तोड दिया। आरोप है की जब महिला की मौत हुई तब वहां कोई चिकित्सक नहीं था। इस तरह से बीते एक हफ्ते में मानसिक चिकित्सालय में पांच मरीजों की जान जा चुकी है। मानसिक चिकित्सालय में भर्ती महिला कहां की रहने वाली थी और उसका क्या नाम था, इस संबंध में फिलहाल कोई जानकारी नहीं मिल सकी है। अस्पताल प्रशासन की ओर से बताया गया कि महिला को वाराणसी के सीजेएम के आदेश से भर्ती किया गया था। मंगलवार की रात महिला की तबीयत खराब हुई तो अस्पताल में कोई डॉक्टर नहीं मौजूद था और उसे किसी अन्य अस्पताल के लिए भी रेफर नहीं कया गया। ऐसे में मुनासिब उपचार के अभाव में महिला की मौत हो गई।
एक कैदी सुरक्षा को धता बता कर भाग निकला

इसके अलावा गत आठ जून को बांदा जिले का कैदी हरिशंकर सुरक्षा कर्मियों को चकमा देकर भाग निकला था। इसके बाद अस्पताल कर्मियों ने एक बंदी की पिटाई जिससे वो गंभीर रूप से घायल हो गया।
एडीएम प्रोटोकॉल व सीएमओ ने कलेक्टर को सौंपी जांच रिपोर्ट

मानसिक चिकित्सालय में मरीजों की लगातार हो रीह मौत को गंभीरता से लेते हुए कलेक्टर कौशल राज शर्मा ने एडीएम प्रोटोकॉल बच्चू सिंह व सीएमओ डॉ संदीप चौधरी की जांच समिति गठित की।दोनों अधिकारी जांच करने पहुंचे तो उन्हें अस्पताल में खामियां ही खामियां नजर आईं। दोनों अफसरों का कहना था कि उन्होंने अस्पताल में मिली खामियों के बाबत जांच रिपोर्ट कलेक्टर को सौंप दी है।
सीटीओ करेंगे वित्तीय मामलों की जांच
इस बीच कलेक्टर के निर्देश पर मुख्य कोषाधिकारी (सीटीओ) वित्तीय मामलों की जांच शुरू कर दी। उन्होंने दो साल में अस्पताल के आय-व्यय, दवाओं की खरीद-बिक्री का रिकार्ड तलब किया है। बताया जा रहा है कि इस वित्तीय जांच में अनियमितता मिलने पर अस्पताल की निदेशक डॉ लिली श्रीवास्तव समेत अन्य स्टॉफ की जवाबदेही तय होगी।
रोजाना बदली जाए बेडशीट, मिले गुणवत्ता पूर्ण भोजन

इस बीच कलेक्टर कौशल राज शर्मा ने अस्पताल की निदेशक डॉ श्री वास्तव को सख्त हिदायत दी है कि मरीजों की बेडशीट रोज बदली जाय। साथ ही ताकीद किया है कि मरीजों को गुणवत्तापूर्ण भोजन दिया जाए। उन्होंने ये भी कहा है कि अस्पताल में रात में भी डॉक्टर उपस्थित रहें।
मानसिक अस्पताल के 16 मरीजों का हुआ एक्सरे
इस बीच गुरुवार को मानसिक अस्पताल में भर्ती 16 मरीजों का एक्स-रे किया गया। बता दें कि इससे पूर्व बुधवार को भी सीएमओ डॉ संदीय चौधरी के नेतृत्व में मानिसक अस्पताल में भर्ती 241 मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया था। इसमें 16 मरीज सीओपीडी के मिले थे। इनके स्वस्थ्य को देखते हुए डीएम कौशल राज ने इनकी मुकम्मल जांच के निर्देश दिए थे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन को आकर्षित करती है कछुआ अंगूठी, लेकिन इस तरह से पहनने की न करें गलतीज्योतिष: बुध का मिथुन राशि में गोचर 3 राशि के लोगों को बनाएगा धनवानपैसा कमाने में माहिर माने जाते हैं इस मूलांक के लोग, तुरंत निकलवा लेते हैं अपना कामजुलाई में चमकेगी इन 7 राशियों की किस्मत, अपार धन मिलने के प्रबल योगडेली ड्राइव के लिए बेस्ट हैं Maruti और Tata की ये सस्ती CNG कारें, कम खर्च में देती हैं 35Km तक का माइलेज़ज्योतिष: रिश्ते संभालने में बड़े कच्चे होते हैं इस राशि के लोगजान लीजिए तुलसी के इस पौधे को घर में लगाने से आती है सुख समृद्धिहाथ में इन निशान का होना मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होने का माना जाता है संकेत

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: उद्धव ठाकरे के इस्तीफे के बाद बीजेपी की बैठक आज, देवेंद्र फडणवीस करेंगे बड़ी घोषणाMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में फिर बनेगी बीजेपी की सरकार, देवेंद्र फडणवीस 1 जुलाई को ले सकते है सीएम पद की शपथउदयपुर मर्डर : आरोपियों के घर से जब्त की सामग्री, चार और संदिग्ध हिरासत मेंइलाहाबाद हाईकोर्ट से अनिल अंबानी को मिली राहत, उत्पीड़न कार्रवाई पर लगी रोक, जानिए पूरा मामलादो जुलाई से इन सुपरफास्ट ट्रेनों में कर सकेगें जनरल टिकट पर यात्राPOLITICS: मध्यप्रदेश की सियासत से परिवारवाद का सफाया शुरूUddhav Thackeray Resigns: फ्लोर टेस्ट से पहले उद्धव ठाकरे ने सीएम और MLC पद से दिया इस्तीफा, कहा- मेरी शिवसेना मुझसे कोई नहीं छीन सकताउदयपुर हत्याकांड के तार पाकिस्तान से जुड़े, दावत ए इस्लामी संगठन से सम्पर्क में थे आरोपी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.