तेज बहादुर यादव के बाद नरेंद्र मोदी के खिलाफ सेना के पूर्व लेफ्टिनेंट ने भी किया नामांकन

तेज बहादुर यादव के बाद नरेंद्र मोदी के खिलाफ सेना के पूर्व लेफ्टिनेंट ने भी किया नामांकन
संतोष यादव

Ajay Chaturvedi | Publish: Apr, 30 2019 02:01:31 PM (IST) | Updated: Apr, 30 2019 02:01:32 PM (IST) Varanasi, Varanasi, Uttar Pradesh, India

-पद्म सम्मान भी मिल चुका है
-एवरेस्ट विजेता है
-सादगी की मिशाल हैं

वाराणसी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने के लिए तमाम लोगों ने अपनी दावेदारी पेश की। कुल 102 लोगों ने पर्चा दाखिल किया है जो बनारस के लिहाज से नया रिकार्ड है। इन प्रत्याशियों में जहां एक तरफ बीएसएफ के बर्खास्त जवान तेजबहादुर यादव है तो एक अन्य जवान ने भी अपनी दावेदारी पेश की है। यह दीगर है कि उन्होंने कोई शोर नहीं मचाया। बस कलेक्ट्रेट पहुंच कर अपनी दावेदारी पेश कर दी। लेकिन उन्हें देख कर लोग चकित रह गए। कुछ उनसे मिलने भी पहुंचे। उनकी सादगी भी लोगों को हैरत में डालने वाली थी।

ये और कोई नहीं बल्कि पद्मश्री अवार्ड से सम्मानीत तीन बार की एवरेस्ट विजेता आईटीबीपी की पूर्व लेफ्टिनेंट कमांडेंट संतोष यादव हैं। नामांकन दाखिले के अंतिम दिन वह कलेक्ट्रेट पहुंची। यह दीगर है कि ज्यादातर लोगों ने उन्हें खास तवज्जो नहीं दी। एक किनारे जमीन पर बैठ कर उन्होंने नामांकन संबंधी कागजात तैयार किए। उनके साथ बहुत बड़ा अमला फैला भी नहीं था। उन्हें जमीन पर बैठा देख एक सज्जन ने वहां मौजूद प्रशासनिक अधिकारियों का ध्यान आकृष्ठ कराया लेकिन प्रशासनिक अफसरों ने भी कोई तवज्जो नहीं दी। हालांकि संतोष यादव को इससे कोई शिकायत नहीं। उल्टे वह तो उनके प्रति सहानुभूति दिखाने वालों को ही समझाने लगीं।

उनका कहना था कि वह किसी की मुखालफत करने में विश्वास नहीं रखती। यहां चुनाव लड़ने आई हूं तो इसका यह मतलब नहीं कि मै, नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने आई हूं। मैं लोगों को जागरूक करने निकली हूं। पैसे की बर्बादी को रोकने के लिए। सदाचार के लिए।वैमनष्यता फैलाना गलत है। अगर हम किसी को चंदा देते हैं तो यह देखें कि किसे चंदा दे रहे हैं। क्यों दे रहे हैं। इसका उपयोग क्या होगा।

पद्मश्री संतोष ने अपने कागाजात जमीन पर बैठ कर भरे। जमीन पर ही बैठी रहीं। लेकिन इससे उन्हें गुरेज नहीं। यह मसला उठा तो उन्होंने कहा कि शासन-प्रशासन किसी को कुर्सी देता है दे, मैं तो जमीन से जुड़ी हूं। देश की सुरक्षा के लिए सीमा पर मुस्तैदी से ड्यूटी दी है। मुझे इससे फर्क नहीं पड़ता कि मुझे कुर्सी मिली या नहीं।

UP News से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Uttar Pradesh Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

UP Lok sabha election Result 2019 से जुड़ी ताज़ा तरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए Download करें patrika Hindi News App .

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned