सेंसर व स्कैनर से सात गुना अधिक सटीक मिल रहे डेटा-डा पी नाग

महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के वीसी ने संभाला ज्योग्राफिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया के चेयरमैन का कार्यभार, जानिए क्या है कहानी

By: Devesh Singh

Published: 09 Dec 2017, 06:57 PM IST

वाराणसी. महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के वीसी डा.पी नाग ने इंडियन ज्योग्राफिकल ऑफ इंडिया क चेयरमैन के तौर पर अपना काम करना शुरू कर दिया है। डा. नाग का निर्वाचन साल भर पहले ही हो गया था, लेकिन संस्था के नियम के अनुसार निर्वाचन के एक साल बाद से काम करने का मौका मिलता है। डा. नाग ने डिजीटल इंडिया व स्मार्ट सिटी को लेकर सेंसर आदि से मिले विभिन्न अंाकड़ों के आधार पर एक लेख लिखा है जो भारत सरकार के बहुत काम आ सकता है।
यह भी पढ़े:-कांग्रेस व सपा को झटका देकर बीजेपी बनायेगी पहली बार यह रिकॉर्ड


डा.पी नाग ने शनिवार को अपने कक्ष में मीडिया से बातचीत में कहा कि पांच दिसम्बर से हेदराबाद में कार्यकाल आरंभ किया है। यह एक महत्वपूर्ण सोसाइटी होती है जहां पर देश में भूगोल के पाठ्यक्रम, अध्ययन, शोध आदि क्षेत्रों में नवीन कार्य किये जाते हैं। वीसी डा.पी नाग ने बताया कि अध्यक्षीय संबोधन में मैने वॉल्यूम ऑफ डेटा पर अपना पेपर प्रस्तुत किया था जो भविष्य के लिए बहुत कारगर है। वीसी डा.पी नाग ने कहा कि पहले इतिहास, क्षेत्रों आदि से मिले विभिन्न आंकड़ों के आधार पर कोई रिपोर्ट तैयार की जाती थी लेकिन अब विभिन्न जगहों पर स्कैनर, सेंसर आदि लगाये जाते हैं, जिनसे मिले डेटा भी रिपोर्ट में शामिल किये जाते हैं। साफ शब्दों में कहा जाये कि पहले जो डेटा मिलते थे अब उससे सात गुना अधिक डेटा मिल रहे हैं। इसके चलते ज्यादा सटीक रिपोर्ट आ रही है। उन्होंने कहा कि आने वाला समय भी इन्हीं डेटा का है।
यह भी पढ़े:-यूपी में है बीजेपी की सरकार, सपा इस माह होने वाले चुनाव में कैसे बचायेगी अपनी यह १० सीट

काशी विद्यापीठ सहित चार जगहों पर लगेंगे सेंसर
वीसी डा. पी नाग ने बताया कि महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ सहित चार जगहों पर मौसम से जुड़े आंकड़े जुटाने के लिए सेंसर लगाये जायेंगे। काशी विद्यापीठ, यूपी कालेज, भदोही व एक अन्य किसी संबद्ध कालेज वाले जिले में यह सेंटर लगाये जायेंगे। इस सेंटर से लगाने वाले स्थान से मौसम से जुड़ी सारे डेटा मिल सकेंगे। भूगोल के छात्रों को इन सेंटरों से अध्ययन करने का नया मौका मिलेगा। वीसी डा. पी नाग के चेयरमैन बन जाने पर कुलसचिव ओमप्रकाश, चीफ प्राक्टर प्रो.शम्भू उपाध्याय आदि अधिकारियों ने बधाई दी है।

यह भी पढ़े:-सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश का कैसे होगा पालन जब बीजेपी विधायक ही करेंगे विरोध

Devesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned