यहां नवरात्र के अवसर पर लगता है भूतों का मेला, सैकड़ों लोग बनते हैं गवाह

चिता रुपी अग्नि कुण्ड के सामने बैठती है एक स्त्री

वाराणसी. भूत, शैतान, प्रेतात्माएँ, पिशाच इन सब के बारे में आपने कई किस्से कहानियां सुनी होंगी। क्या सच में प्रेतात्मा जेसी कोई ताकत होती हे और बहुत से ऐसे लोग हें जिन्होंने इन प्रेत शक्तियों के साथ अपने अनुभव का जिक्र किया है। गोरखपुर जिले के पिपराइच के बनकटवा में नवरात्र के अवसर पर लगने वाला भूतों का मेला भी अनोखा है। कहा जाता है कि इस मेले में आकर बीमार का इलाज किया जाता है तो वह बिल्कुल ठीक हो जाता है। इस तरह के मेले का आयोजन आसपास के जिलों में भी किया जाता है।


यह भी पढ़ें: भूतों का अस्पताल, जहां से रात को आती हैं खौफनाक आवाजें, दीवारों पर पंक्षी तक नहीं बैठते



इन गांवों में चिता रुपी अग्नि कुण्ड के सामने एक स्त्री बैठती है। मान्यता है कि उसके प्रताप से भूत प्रेत भाग जाते हैं। कुंवारी कन्याओं का नवरात्र में इलाज़ में होता है। बनकटवा गांव के लोगों के मुताबिक यह नई परम्परा नहीं है। वर्षो से ऐसा हो रहा है, जिसपर कभी किसी ने ऐतराज़ नहीं किया। सुबह शाम इस मेले में दूर दूर से महिलाएं आती हैं और अपनी बीमार बेटी का इलाज़ देवी रूपा मां के समक्ष भूत-भूत खेलवा कर करवाती हैं। हालांकि भूतों के मेला के दौरान महिलाओं और लड़कियों के साथ क्रूरता भी होती है, बावजूद इसके हर साल सैकड़ों लोग इस मेले में शामिल होने आते हैं।


Show More
अखिलेश त्रिपाठी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned