गोरखपुर में मासूमों की मौत मामले में प्रिंसिपल समेत छह पर दर्ज होगी एफआईआर, मुख्य सचिव की रिपोर्ट सीएम योगी ने लिया एक्शन

गोरखपुर बीआरडी कॉलेज में बच्चों की मौत मामले में बड़ी कार्रवाई, प्रिंसिपल समेत छह के खिलाफ सीएम के आदेश पर एफआईआर।

गोरखपुर. यूपी के गोरखपुर स्थित बीआरडी कॉलेज में मासूमों की मौत के मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बड़ी कार्रवाई की है। इस मामले में मुख्यमंत्री के आदेश पर बीआरडी के प्रिंसिपल समेत छह लोगों के खिलाफ एफआईआर की कार्रवाई की जााएगी। सीएम योगी आदित्यनाथ ने ये कदम मुख्य सचिव की रिपोर्ट आने के बाद उठाया है। मुख्य सचिव ने मामले की जांच कर उसकी रिपोर्ट मुख्यमंत्री योगी को सौंपी है। इसके पहले प्रिंसिपल को सरकार ने इस मामले में पहले ही निलंबित कर दिया था और उस रात गैस सिलिण्डर उपलब्ध कराने वाले नोडल प्रभारी डॉ. कफील खान को भी निजी प्रैक्टिस के आरोप में उनके पद से हटा दिया गया था।

 

गोरखपुर इंसेफेलाइटिस के मद्देनजर काफी संवेदनशील इलाका है। यहां बीआरडी मेडिकल कॉलेज में इसके लिये स्पेशल वार्ड भी बना हुआ है। इसी कॉलेज के वार्ड में अचानक 10 अगस्त की रात में यह बात सामने आयी कि वहां पांच दिनो में 60 बच्चों की मौत हो गई। कहा गया कि दो दिनों में ऑक्सीजन की कमी से 30 बच्चों की मौत हो गई। इसके बाद तो हड़कम्प मच गया। इस हादसे के बाद सरकार बैकफुट पर आती दिखी।

 

इस मामले में सरकार तक और ज्यादा घिर गई जब सूबे के स्वस्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने यह बयान दिया कि अगस्त के महीने में पहले भी बच्चों की मौतें होती रही हैं यह सामान्य है और पिछली सरकारों में भी अगस्त के महीने में ऐसी मौतें हुई हैं। उन्होंने कुछ आंकड़े भी पेश किये। पर इस बयान के बाद सरकार की और ज्यादा किरकिरी हो गई।

 

इसके बाद सीएम योगी आदित्यनाथ गोरखपुर पहुंचे और वहां जाकर बीआरडी मेडिकल कॉलेज खासतौर से इंसेफेलाइटिस वार्ड का निरीक्षण किया। पर उन्होंने वहां मीडिया के कवरेज पर सवाल उठा दिया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने पहले इस मामले में बीआरडी के प्रिंसिपल को निलंबित किया और उसके बाद नोडल प्रभारी डॉ. कफील खान को निजी प्रैक्टिस के आरोप में उनके पद से हटा दिया।

 

हालांकि इस मामले में स्वास्थ्य मंत्री से लेकर मुख्यमंत्री तक गोरखपुर गए लेकिन पीड़ितों को किसी प्रकार का मुआवजा नहीं दिया गया। सीएम योगी के बाद पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव भी गोरखपुर पहुंचे और पीड़ित परिवारों से मिले। उन्होंने पीड़ित परिवारों को दो-दो लाख रुपये की मदद का ऐलान किया।

राहुल गांधी भी गुलाम नबी आजाद, राज बब्बर, आरपीएन सिंह व आराधना मिश्रा के साथ गोरखपुर पहुंचे। उन्होंने पीड़ित परिवारों से मुलाकात कर उनका दर्द जाना। इसके बाद उन्होंने मीडिया के सामने पूरे हादसे को गवर्नमेंट मेड ट्रेजिडी यानि सरकार की लापरवाही से हुआ हादसा बताया।

by  DHIRENDRA GOPAL

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned