पवित्र कंदवा सरोवर में आधा दर्जन कछुओं की मौत

पवित्र कंदवा सरोवर में आधा दर्जन कछुओं की मौत
turtles die in holy Kandwa lake

Ajay Chaturvedi | Updated: 11 Jul 2019, 04:22:36 PM (IST) Varanasi, Varanasi, Uttar Pradesh, India

-कंदवा सरोवर में कछुओं की मौत की सूचना सुनकर भी टाल मटोल करते रहे जिम्मेदार
- ग्रामीणों ने कछुओं को जमीन में दफना दिया

वाराणसी. पंचक्रोशी परिक्रमा के पहले पड़ाव कंदवा सरोवर का पानी दूषित हो चुका है। आलम यह है कि इस सरोवर के जलीय जीवों की मौत होने लगी है। लेकिन जिम्मेदारो का हाल यह कि वो सुनने तक को तैयार नहीं। कछुओं के मरने की जानकारी होने के बाद भी वो यह कह कर अपनी जिम्मेदारी से मुक्त हो जाना चाह रहे हैं कि यह मेरे इलाके का मामला नहीं है।

जानकारी के अनुसार गुरुवार की सुबह कंदवां तालाब के आसपास रहने वाले लोगों ने तालाब में लगभग आधा दर्जन कछुओं के शव पानी में इधर-उधर उतराते देखा। कछुओं के शव पवित्र के जलाशय में उतराते देख मौके पर ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गई। ग्रामीणों ने बताया स्थानीय भाजपा नेता जितेंद्र केशरी को सूचना दी। केसरी ने वन विभाग, मत्स्य विभाग व पशुधन विभाग में बात करने का प्रयास किया। अव्वल तो कहीं फोन रिसीव नहीं हुआ, जिसने भी फोन रिसीव किया तो पूरी बात सुनने के बाद यह कह कर फोन काट दिया कि कि यह मेरे क्षेत्र में नहीं आता। विभागों के टालमटोल देखते हुए ग्रामीणों ने मरे हुए कछुओं को जमीन में दफना कर अंतिम संस्कार कर दिया। ग्रामीणों का कहना है कि किसी अज्ञात बीमारी के कारण दुर्लभ जीव कछुओ की मृत्यु हुई है। वो इस सरोवर के पानी के दूषित होने की आशंका भी जता रहे हैं।

 

ये भी पढें- आबकी सावन में पंचक्रोशी परिक्रमा के पहले पड़ाव कर्दमेश्वर मंदिर पहुंचना जोखिम भरा

turtles die in holy Kandwa lake

बता दें कि कंदवा सरोवर कर्दमेश्वर मंदिर के तट पर है। यह कर्दमेश्वर मंदिर पंचक्रोशी परिक्रमा का पहला पड़ाव है। 17 जुलाई से शुरू होने वाले सावन के दौरान बड़ी तादाद में यहां पंचक्रोशी परिक्रमा के यात्री आएंगे। यहां रात्रि विश्राम करेंगे। इस पवित्र सरोवर के जल का उपयोग भी करते हैं श्रद्धालु। यह सब जानते हुए भी वन विभाग, मत्स्य विभाग और पशुधन विभाग इस तरह की लापरवाई बरत रहा है जिससे ग्रामीणों में आक्रोश है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned