विश्व बैंक के सहयोग से बनारस में हैंडलूम कारीगरों के लिये बनेगा स्किल डेवलपमेंट सेंटर

100 करोड़ की लागत से प्रस्तावित है सेंटर का निर्माण।

वराणासी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में हैंडलूम कारीगरों के लिए एक स्किल डेवलपमेंट सेंटर बनाया जाएगा। यहां करीगरों के कौशल को और निखारने में मदद मिलेगी इसके ज़रिये कला को भी प्रोत्साहन मिलेगा। यह सेंटर विश्व बैंक के सहयोग से 'प्रो टूअर' योजना के तहत सारनाथ में बनाया जाएगा। यही नहीं इसके साथ ही यहां सभी धर्मों से जुड़े ग्रंथों के संग्रह वाली एक लाइब्रेरी भी बनायी जाएगी और दिव्यंगजनों के लिए गोल्फ कोर्ट भी चलाए जाएंगे।

 

कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने अधिकारियों संग बैठक कर 10 दिनों के अंदर इसकी कार्ययोजना बनाने का निर्देश दिया है। ये कार्य करीब 100 करोड़ रुपये से होना प्रस्तावित है। इसके साथ ही सारनाथ क्षेत्र में पर्यटन के दृष्टिगत सुविधाओं का विस्तार होगा। बसों व हल्के वाहनों की पार्किंग बनायी जाएगी, जिसके लिये एसडीएम, विडीए, पर्यटन और पुरातत्व विभाग के अधिकारियों को एक सप्ताह में ज़मीन तलाश कर प्रस्ताव तैयार करना है।

 

मंडलायुक्त के मुताबिक़ योजना के तहत सारनाथ एरिया में सारनाथ म्यूज़ियम, चौराहा, रेलवे स्टेशन व सुहेलदेव तिराहा में पाथवे बनाया जाएगा। बौद्ध स्थलों व मंदिरों की कनेक्टिविटी भी मुख्य रास्ते से बेहतर की जाएगी। उन्होने बताया है कि पूरे सारनाथ पर्यटकों की सुरक्षा और सुविधाओं का ख़याल रखते हुए कार्य कराए जाएंगे। सीसीटीवी कैमरा, एलईडी स्क्रीन के साथ ही पर्यटकों के लिये विजिटर सेंटर भी बनाया जाएगा। पर्यटन विभाग को पावर प्रेजेंटेशन तैयार करने के साथ साथ ही यह भी बताने को कहा गया है कि कौन से काम पहले कराए जा सकते हैं।

रफतउद्दीन फरीद Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned