वाराणसी और आसपास के छात्रों के हित में IIT BHU और सिस्को साथ करेंगे काम

-सिस्को सिस्टम्स एशियापैसिफिक के उपाध्यक्ष डोमिनिक स्कॉट ने आईआईटी निदेशक से बातचीत

वाराणसी. सिस्को सिस्टम्स एशियापैसिफिक व एशिया स्पेसिफिक के सरकारी रणनीतिक मामलों के उपाध्यक्ष डोमिनिक स्कॉट और प्रबंध निदेशक सिस्को सिस्टम्स इंडिया हरीश कृष्णन ने शुक्रवार को आईआईटी (बीएचयू) का दौरा किया। वे मालवीय उद्यमिता संवर्धन केंद्र के समन्वयक प्रो. पी.के. मिश्रा के साथ निदेशक, भारतीय प्रौद्योगिकी संसथान (काशी हिंदू विश्वविद्यालय) से मुलाकात की। इस दौरान आई.आई.टी. (बी.एच.यू.) के विद्यार्थियों एवं वाराणसी और इसके आसपास के क्षेत्र के छात्रों के लाभ के लिए सिस्को और आई.आई.टी. (बी.एच.यू.) के बीच सहयोग बढ़ाने पर चर्चा हुई।

डोमिनिक और हरीश ने सिस्को थिंगक्यूबेटर, एम.सी.आई.आई.ई., आई.आई.टी. (बीएचयू) का दौरा किया, जहां थिंगक्यूबेटर के छह सर्वश्रेष्ठ सहायता प्राप्त इनक्यूबेट्स ने उनके प्रोटोटाइप का प्रदर्शन किया और उनके बारे में संक्षेप में उत्पाद के बारे में बताया। प्रत्यूष चौधरी और उनकी टीम ने संक्षिप्त रूप से डॉक्टरों (हेल्थनेक्स्ट) के लिए डिजिटल सक्षम डिजिटल आवाज पर अपने प्रोजेक्ट की व्याख्या की, क्षितिज पांडेय ने ‘शुद्धता जांचकर्ता डिवाइस’ का प्रदर्शन किया। सुमित भट्ट ने अपने ‘डॉक्टर अराउंड यू’ ऐप का प्रदर्शन किया तो आकाश ने डायनामिक पासकोड के साथ नए ‘की-लॉक सिस्टम’ के अपने प्रोजेक्ट का प्रदर्शन किया। कैलाश ने अपनी परियोजना का प्रदर्शन डिजिटाइज्ड मेडिकल रिकॉर्ड के आधार पर किया और साहिल ने अपने ‘RFID’आधारित उत्पाद को ताले (टेपलॉकर्स) में उपयोग करने के बारे में समझाया।

इस मौके पर नैसकॉम फाउंडेशन के अधिकारी यानी संतोष अब्राहम (उपाध्यक्ष), इनबकुमार जोशुआ (संचालन प्रबंधक), प्रशांत कुमार (कौशल प्रमुख) उपस्थित थे।

Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned