अब मूक बधिरों से बातचीत होगी आसान, IIT BHU बना रहा यह खास एप

Ajay Chaturvedi

Publish: Dec, 07 2017 04:30:55 (IST)

Varanasi, Uttar Pradesh, India
अब मूक बधिरों से बातचीत होगी आसान,  IIT BHU बना रहा यह खास एप

तैयार होने पर मूक बधिरों को मिलेगी बड़ी सौगात, ज्यादा नहीं छह महीने में तैयार हो जाएगा यह एप।

वाराणसी. आईआईटी बीएचयू ने मूक बधिरों को आम सामान्य जन से संवाद स्थापित करने का आसान तरीका खोज निकाला है। संस्थान एक ऐसा एप तैयार कर रहा है जिससे मूक बधिरों की सांकेतिक भाषाओं को शब्द मिलेगा,वाक्य बनेंगे। उसे समझा जा सकेगा। इसे मोबाइल व लैपटॉप में अपलोड किया जा सकेगा। इससे दोनों के बीच आसानी से संवाद स्थापित हो सकेगा। यह एप ज्यादा से ज्यादा छह महीने में तैयार हो जाएगा।

एप लांच करने का काम अंतिम चरण में है। इसके माध्यम से मूक बधिरों के भाषाई संकेतों को शब्द में परिवर्तित किया जा सकेगा। ऐसा होने पर मूक बधिरों की सांकेतिक भाषा को आसानी से समझा जा सकेगा। आईआईटी बीएचयू के जैव प्रौद्योगिकी के छात्र निखिल ढाका इस एप पर काम कर रहे हैं। संस्थान के स्कूल ऑफ बायो मेडिकल इंजीनियरिंग के प्रो. नीरज शर्मा ने पत्रिका से बातचीत में इसकी पुष्टि की। उन्होंने बताया कि एप तैयार होने में अभी कम से कम एक और समेस्टर लगेगा। यानी छह महीने और। लेकिन यह एप जब तैयार हो जाएगा तो यह मूक बधिरों और सामान्य जन के बीच बेहतर तरीके से संवाद स्थापित हो सकेगा।

बता दें कि निखिल के इस एप की खासियत है कि यह संकेतों को पढने वाला एप है। इसमें एक वीडियो क्लिप का इस्तेमाल किया जाएगा। इससे मूक बधिर अपनी बातों को सामान्य लोगों को समझा सकेंगे। यही नहीं इसके जरिए कुछ लिखकर भी उसे संकेतों में परिवर्तित किया जा सकेगा। प्रो. शर्मा ने बताया कि एप तैयार होने के बाद उसे पेटेंट भी कराया जाएगा। इस एप को मोबाइल और लैपटॉप में भी इस्तेमाल किया जा सकेगा। इस एप की खासियत यह भी है कि यह संकेतों को वाक्य में बदलने सकेगा।

 

बता दें कि मूक बधिरों की भाषा आम इंसान की भाषा से इतर होती है। मूक बधिरों की भाषा एक ही होती है चाहे जहां चले जाएं। इसमे बहुत भिन्नता नहीं होती है। बावजूद इसके इसे समझ पाना आसान नहीं होता। इसे समझने के लिए दक्ष प्रशिक्षक की दरकार होती है। लेकिन इस एप के तैयार होने के बाद कोई भी आदमी आसानी के साथ इनकी सांकेतिक भाषा को समझ सकेगा।

इस एप के मार्फत मूक बधिर को कुछ भी समझाने के लिए बोलकर उसे संकेतों में बदलने की तकनीक पर भी काम चल रहा है। इस एप से मूक बधिर द्वारा दिए गए संकेतों का विडिया बनाया जाएगा। इतना ही नहीं इस एप को जैसे जैसे संकेत मिलेंगे वह उसे लिखने लगेगा। खास यह कि कमांड के जरिए इसका उपयोग अनेक भाषाओं में किया जा सकेगा।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned