शिवपाल की पार्टी में शामिल होगा यह दिग्गज मुस्लिम नेता, लोकसभा चुनाव में सपा- बसपा का बिगड़ा समीकरण

शिवपाल की पार्टी में शामिल होगा यह दिग्गज मुस्लिम नेता, लोकसभा चुनाव में सपा- बसपा का बिगड़ा समीकरण

Akhilesh Kumar Tripathi | Publish: Sep, 06 2018 04:22:42 PM (IST) Varanasi, Uttar Pradesh, India

कई नेता भी समाजवादी पार्टी का छोड़ सकते हैं साथ

वाराणसी. कभी समाजवादी पार्टी के दिग्गज नेताओं में शामिल रहे और बड़ा मुस्लिम चेहरा जल्द ही शिवपाल यादव की पार्टी समाजवादी सेक्लुयर मोर्चा में शामिल होने वाला है। सपा सरकार में दो बार मंत्री और डुमरियागंज सीट से पांच बार विधायक रहे कमाल यूसुफ मलिक शिवपाल यादव की पार्टी में शामिल होंगे। कमाल यूसुफ मलिक के शिवपाल यादव के पार्टी में शामिल होने से डुमरियागंज लोकसभा सीट पर सपा और बसपा का समीकरण बिगड़ सकता है। इस बात की भी चर्चा तेज है कि कमाल यूसुफ मलिक के साथ कई नेता भी समाजवादी पार्टी का साथ छोड़ सकते हैं।

बता दें कि कमाल युसूफ मलिक पिछले विधानसभा चुनाव में अखिलेश यादव के रवैये से नाराज होकर समाजवादी पार्टी का साथ छोड़ दिया था और बसपा में शामिल हो गये थे। शिवपाल यादव के पार्टी बनाने की घोषणा के बाद कमाल युसूफ मलिक ने उनकी पार्टी समाजवादी सेक्लुयर मोर्चा में शामिल होने का ऐलान किया। शिवपाल यादव और कमाल युसूफ मलिक युवावस्था से ही साथ रहे हैं।

 

डुमरियागंज सीट पर बिगड़ा महागठबंधन का समीकरण
कमाल युसूफ मलिक के शिवपाल यादव की पार्टी में शामिल होने के बाद डुमरियागंज लोकसभा सीट सपा- बसपा खेमे में बेचैनी बढ़ गई है । मुस्लिम चेहरा होने की वजह से महागठबंधन के वोट बैंक में सेंध लगना तय है। इस सीट पर महागठबंधन की तरफ से बसपा प्रत्याशी आफताब आलम काफी दिनों से जनसंपर्क अभियान में जुटे हैं, हालांकि प्रत्याशी को लेकर कोई औपचारिक ऐलान नहीं किया गया है। ऐसे में यह तय है कि महागठबंधन के मुस्लिम प्रत्याशी के लिये 2019 का चुनाव आसान नहीं होने वाला है। पुराने सपाई होने की वजह से कमाल युसूफ मलिक सपा के हर दांव पेच से वाकिफ है जो समाजवादी पार्टी के लिये परेशानी बन सकता है।

 

सपा को होगा ज्यादा नुकसान
कमाल यूसुफ मलिक के शिवपाल यादव के साथ जाने से सबसे ज्यादा नुकसान समाजवादी पार्टी को होगा। अखिलेश यादव से खफा कमाल युसूफ मलिक लोकसभा चुनाव में सबसे ज्यादा टारगेट अखिलेश को ही करेंगे। वहीं शिवपाल यादव को भी अपने पार्टी में बड़े मुस्लिम चेहरे के रूप में कमाल युसूफ मलिक का साथ मिला है जो आगामी चुनाव में पूरे प्रदेश में प्रचार अभियान में मुख्य भूमिका में नजर आ सकते हैं। ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि युसूफ मलिक का साथ शिवपाल को कितना फायदा पहुंचाता है ।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned