करवा चौथ 2019: 70 साल बाद बन रहा यह शुभ संयोग, इतने बजे तक खा लें सरगी

करवा चौथ 2019: 70 साल बाद बन रहा यह शुभ संयोग, इतने बजे तक खा लें सरगी
Karwa chauth

Sarweshwari Mishra | Updated: 11 Oct 2019, 04:35:33 PM (IST) Varanasi, Varanasi, Uttar Pradesh, India

इस बार उपवास का समय 13 घंटे 56 मिनट का है

वाराणसी. करवा चौथ सुहागिन महिलाओं का बहुत ही महत्व रखने वाला त्योहार है। इस साल यह त्योहार 17 अक्टूबर को मनाया जाएगा। करवा चौथ का महत्व इस बार इसलिए ज्यादा है क्योंकि इस साल करवा चौथ पर एक विशेष संयोग बन रहा है। बताया जा रहा है कि यह संयोग 70 साल बाद बन रहा है। क्योंकि इस बार चतुर्थी तिथी 17 अक्टूबर को 6:48 पर लग रही है और अगले दिन चतुर्थी तिथि सुबह 7:29 तक रहेगी। इस बार उपवास का समय 13 घंटे 56 मिनट का है। सुबह 6:21 से रात 8:18 तक।


सरगी खाने का शुभ मुहूर्त
इस साल सरगी खाने का शुभ मुहूर्त 6:21 तक ही है। प्रात: 4 बजे से 6:20 तक आप सरगी खा सकते हैं। तत्पश्चात 6:21 से व्रत शुरू हो जाएगा।

चांद को बिना अर्घ्य दिए ना तोड़ें व्रत
पूरे दिन निर्जला व्रत रखकर महिलाएं शाम को चांद को अर्घ्य देकर व्रत को तोड़ती हैं। इस बार चांद 8:18 पर निकलेगा। अगर आप व्रत की कहानी सुनना चाहती हैं और पूजा करना चाहती हैं तो शाम 5:50 से 7:06 तक कर सकती हैं। पूजा के लिए यह शुभ मुहूर्त है। कुल मिलाकर एक घंटे 15 मिनट का मुहूर्त है।

ये है पूजा, सरगी और चांद निकलने का शुभ समय

शाम 5:50 से 7:06
ये मुहूर्त एक घंटे 15 मिनट का है।
सुबह 6:21 से रात 8:18 तक
उपवास का समय 13 घंटे 56 मिनट है।
चांद निकलने का समय: 8:18 रात

इस बार रोहिणी नक्षत्र के साथ मंगल का योग होना अधिक मंगलकारी बना रहा है। यह योग बहुत ही मंगलकारी है और इस दिन व्रत करने से सुहागिनों को व्रत का फल मिलेगा। इस दिन चतुर्थी माता और गणेश जी की भी पूजा की जाती है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned