काशी विद्यापीठ के छात्रों ने कुलानुशासक के खिलाफ खोला मोर्चा, लगाये कई गंभीर आरोप

छात्रों ने कुलानुशासक पर अमानवीय व्यवहार करने का आरोप लगाया, निलंबन की मांग की ।

By: Akhilesh Tripathi

Published: 22 Aug 2017, 10:37 PM IST

वाराणसी. महात्मा गांधी काशी विधापीठ के छात्रों ने सोमवार को फर्जी मूल्यांकन के विरोध में पंत प्रशासनिक विभाग के पास धरना प्रदर्शन किया था, छात्रों का आरोप है कि प्रदर्शन के दौरान कुलानुशासक ने उनके खिलाफ अमानवीय व्यवहार किया था। मंगलवार को इस मामले को लेकर छात्रों ने सिगरा थाना में एसओ को कुलानुशासक के खिलाफ तहरीर भी दिया और कुलानुशासक पर अमानवीय व्यवहार करने का आरोप लगाया । छात्रों ने चेतावनी दी कि अगर हमारी मांग पूरी नहीं हो पाती है तो छात्र आंदोलन करने को मजबूर होंगे ।

 

 

 

छात्रों का कहना है कि धरना प्रदर्शन के दौरान कुलानुशासक ने छात्रों के खिलाफ जातिसूचक शब्दों का प्रयोग किया । छात्रों का कहना है कि वह विश्वविद्यालय प्रशासन से कुलानुशासक के इस्तीफे की मांग करते हैं और जब तक उन्हें हटाया नहीं जाता, उनका आंदोलन जारी रहेगा । छात्रों का कहना है कि कुलानुशासक ने छात्र अभिषेक गौतम, हर्ष सोनकर के खिलाफ काफी भद्दी भद्दी टिप्पणी भी की और उनका निलंबन करने की चेतावनी भी दी ।

बता दें कि बीएससी पाठ्यक्रम में छात्रों के परीक्षा मार्क में अनियमितता की शिकायत मिल रही है । सौ से ज्यादा छात्रों के मार्किंग में गड़बड़ी का आरोप है । कई छात्रों का मार्किंग शून्य की गई है, जबकि कई छात्रों को पांच से लेकर दस नंबर तक दिये गये हैं । छात्रों ने सिगरा थाने के एसओ को इस संबंध में तहरीर दी और कुलानुशासक पर जान से मारने की धमकी, जातिसूचक शब्दों का प्रयोग, मारपीट करने और निष्काषण करने की धमकी देने का आरोप लगाया। वहीं मामले में एसओ का कहना है पूरा मामला सामने आया है और जांच के बाद मुकदमा दर्ज किया जायेगा ।

प्रदर्शन के दौरान छात्र संघ के पूर्व उपाध्यक्ष राहुल राज,, कृष्णवीर सिह, विकास चौहान, अभिशेक गिरि, प्रतीक पटेल, कृष्णा सिह, राजन मिश्रा, विशाल शर्मा, सौरभ यादव, मो आकिब, आशीष पटेल मौजूद थे ।

Show More
Akhilesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned