उपराष्ट्रपति के लिए टल गया काशी विद्यापीठ का दीक्षांत समारोह

उपराष्ट्रपति के लिए टल गया काशी विद्यापीठ का दीक्षांत समारोह

Devesh Singh | Publish: Sep, 06 2018 08:11:39 PM (IST) Varanasi, Uttar Pradesh, India

राज्यपाल ने पहले आठ सितम्बर की तिथि जारी की थी, अब राज्यभवन से जारी होगी नयी तिथि

वाराणसी. महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ का दीक्षांत समारोह उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के लिए टाल दिया गया है। विश्वविद्यालय प्रशासन की हार्दिक इच्छा है कि इस बार परिसर में उपराष्ट्रपति ही मुख्य अतिथि बनकर आये। दीक्षांत समारोह की तिथि तक उपराष्ट्रपति के आने की सहमति नहीं मिल पायी है इसलिए अब नयी तिथि में दीक्षांत समारोह कराया जायेगा। अब देखना है कि मुख्य अतिथि किसी बनाया जाता है। राज्यभवन से जल्द ही समारोह की दूसरी तिथि जारी हो सकती है।
यह भी पढ़े:-एससी-एसटी एक्ट का विरोध करने वालों ने जब भगवा बांध कर लगाये जय श्रीराम के नारे, बीजेपी में मची खलबली

राज्यपाल राम नाइक ने प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों के लिए दीक्षांत समारोह की तिथि घोषित की हुई है इसके अनुसार परिसर में आठ सितम्बर को दीक्षांत समारोह होना था। विश्वविद्यालय के वीसी प्रो. टीएन सिंह का कहना है कि जल्द ही उपराष्ट्रपति के आगमन की तिथि मिल जायेगी। इसके बाद दीक्षांत समारोह की नयी तिथि जारी होगी। बताते चले कि दीक्षांत समारोह के लिए मेधावियों की सूची तैयार हो चुकी है और दीक्षांत मैदान में पंडाल बनना भी शुरु हो चुका था।
यह भी पढ़े:-एससी/एसटी एक्ट के विरोध में भारत बंद के दौरान आंदोलनकारी व दुकानदार में नोकझोंक, हाथापाई

पांच जिलो से होता है टॉपर छात्रो का चयन
महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ से पांच जिलों के कॉलेजों को मान्यता मिलती है। बनारस के अतिरिक्त चंदौली, मिर्जापुर, सोनभद्र व भदोही शामिल है। काशी विद्यापीठ से पहले बलिया के कॉलेज भी जुड़े थे लेकिन अब वहां पर विश्वविद्यालय बन जाने के कारण बलिया अलग हो गया है। मेधावी छात्रों की सूची पहले ही तैयार हो गयी है। बनारस के अतिरिक्त अन्य जिलों के मेधावी छात्रों को भी राज्यपाल के हाथ से मेडल मिलना है इसलिए मेधावियों को दीक्षांत समारोह की नयी तिथि का इंतजार है। परिसर का दीक्षांत समारोह बेहद भव्य होता है। बीएचयू के बाद काशी विद्यापीठ के दीक्षांत समारोह का नम्बर आता है।
यह भी पढ़े:-एससी/एसटी एक्ट के खिलाफ डीएम पोर्टिको में नारेबाजी, शर्ट उतार पर किया विरोध प्रदर्शन

Ad Block is Banned