काशी विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत का अनशन, चार दिनों में तेजी से गिरा स्वास्थ, देश भर से मिल रहा नैतिक समर्थन

  • रजत प्रतिमाओं की वापसी को लेकर अन्न जल त्यागा
  • महंत का तेज़ी से गिरता स्वास्थ बना चिंता का विषय
  • बिना लिखित आश्वासन के मानने को तैयार नहीं

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

वाराणसी. काशी विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत कुलपित तिवारी पिछले 4 दिनों से अनशन पर हैं और उनके अनशन को लगातार देश के दूसरे हिस्सों से भी नैतिक समर्थन मिल रहा है। हालांकि इस बीच उनका स्वास्थ्य तेजी से गिर रहा है, जिससे उनके परिवार और शुभचिंतकों की चिंताएं बढ़ गईं हैं। उनके पारिवारिक चिकित्सक एमके शर्मा का कहना है कि लगातार चार दिनों से अन्न-जल त्यागने के चलते महंत जी का शरीर तेजी से कमजोर हो रहा है। काशी विश्वनाथ मंदिर के महंत डाॅ. कुलपति तिवारी मंगलवार को टेढ़ी नीम स्थित महंत आवास पर सुबह नौ बजे से अन्न-जल त्यागकर अपना अनशन शुरू किया था। वो बाबा विश्वनाथ और माता पार्वती सहित कईं प्राचीन रजत प्रतिमाओं की वापसी की मांग कर रहे हैं।


ये है अनशन की वजह

महंत डॉ. कुलपति तिवारी के मुताबिक बीते साल 22 जनवरी को काशी विश्वनाथ मंदिर के सामने स्थित महंत आवास का एक हिस्सा अचानक ढह गया था। इसके मलबे में कईं सामान दब गए थे, बाल-बाल बची बाबा विश्वनाथ, माता पार्वती समेत कईं प्राचीन रजत प्रतिमाएं बाल-बाल रजत प्रतिमाओं को मंदिर प्रबंधन ने मंदिर के एक कमरे में सुरक्षित रखवाकर ताला लगा दिया और चाभियां तीन पक्षों के पास थीं। अनशनरत महंत का आरोप है कि मंदिर प्रबंधन ने बिना उनकी जानकारी के रजत मूर्तियां उनके छोटे भाईं को सौंप दीं। उन्होंने रजत मूर्तियों की वापसी, विश्वनाथ मंदिर में पूजन का अधिकार समेत मांगों को को लेकर पीएम और मुख्यमंत्री को भी पत्र लिखा था। अब इसी मांग को लेकर महंत ने मंगलवार से अनशन शुरू कर दिया है।


देश भर से मिल रहा नैतिक समर्थन

महंत के अनशन शुरू करने के बाद उनके समर्थन में लोग खड़े हो रहे हैं। कैथी स्थित मौकंडेय महादेव मंदिर के महंत परिवार प्रतिनिधि, काशी तीर्थ पुरोहित संघ के अध्यक्ष पं. कन्हैया त्रिपाठी, काशी डमरू दल के जंत्रलेश्वर यादव ने उनके आवास पर जाकर उनका समर्थन किया। लोग लगातार फोन पर उनका हालचाल ले रहे हैं और समर्थन जता रहे हैं। बताया गया है कि आईंपीएस डा. जुगल किशोर त्रिपाठी, उन्नाव से डॉ चंद्रमौलि शुक्ला, जयपुर के उद्यमी रामाश्रय दामोदर मोदी तो वाराणसी व आसपास के जिलों से महेश साहनी, आनंद मौर्य, कमलेश मौर्या, डॉ कुसुम चतुर्वेदी, कल्लू मिश्रा, नीलम खान, डॉ. आशा अग्रवाल, उदय शंकर त्रिपाठी व अनिरुद्ध शंकर त्रिपाठी ने भी फोन कर अनशनरत महंत का हालचाल लिया और उनके अनशन को नैतिक समर्थन जताया।


लगातार गिर रहे स्वास्थ ने बढ़ाईं चिंता

पिछले चार दिनों से अन्न जल त्यागने के चलते काशी विश्वनाथ मंदिर के अनशनरत महंत डाॅ. कुलपति तिवारी का स्वास्थ्य गिरने से चिंताएं बढ़ गई है। पहले ही दिन अन्न-जल और दवाइयां आदि न लेने से उनका ब्लड प्रेशर बढ़ गया था। उनका लगातार गिरता स्वास्थ देखकर परिवार के लोग उन्हें समझाने में जुटे हैं। उनके बेटे वाचस्पति तिवारी के मुताबिक एक तरफ विश्वनाथ मंदिर के अधिकारी पल्ला झाड़ने में जुटे हैं तो दूसरी ओर उनके अनशनरत पिता (महंत) की हालत लगातार खराब होने के बावजूद प्रशासन उनकी सुधि नहीं ले रहा। जिला प्रशासन की ओर से 48 घंटे बाद जांच के लिये मेडिकल टीम भी नहीं भेजी। धर्मार्थ कार्य मंत्री मिलने तक नहीं आए


मनाने की कोशिशें जारी

अनशनरत महंत को मनाने की कोशिशें लगातार जारी हैं, दशाश्वमेध पुलिस चौकी इंचार्ज दो बार टेढ़ीनीम स्थित महंत आवास कईं बार पहुंचे। इसके अलावा उनके परिवार के लोग भी गिरते स्वस्थ को देखते हुए प्रयास कर रहे हैं। पर महंत बिना लिखित आश्वासन के मानने को तैयार नहीं।

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned