पहली बार काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में दोनों पक्ष इस बात पर हुए एकमत

काशी विश्वनाथ मंदिर (Kashi Vishwanath Temple) और ज्ञानवापी मस्जिद (Gyanwapi Maszid) मामले में पहली बार ऐसा हुआ है कि दोनों पक्ष एक बात पर सहमत हुए हैं

By: Karishma Lalwani

Published: 05 Feb 2021, 02:55 PM IST

वाराणसी. काशी विश्वनाथ मंदिर (Kashi Vishwanath Temple) और ज्ञानवापी मस्जिद (Gyanwapi Maszid) मामले में पहली बार ऐसा हुआ है कि दोनों पक्ष एक बात पर सहमत हुए हैं। दरअसल, शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद के शिष्य और प्रतिनिधि स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने कोर्ट में नया पक्षकार बनने के लिए एक प्रार्थना पत्र दाखिल किया, जिस पर मंदिर और मस्जिद दोनों ही पक्षों ने समान रूप से आपत्ति जताई। कोर्ट ने सुनवाई की अगली तारीख 11 फरवरी नियत करते हुए मामले पर लिखित आपत्ति मांगी है। 1991 से चल रहे वाराणसी कचहरी में काशी विश्वनाथ मंदिर और उसी परिक्षेत्र में स्थित ज्ञानवापी मस्जिद मामले में ऐसा पहली बार हुआ दोनों पक्ष एक ही बात पर एकमत हुए हैं।

दरअसल वाराणसी के सिविल जज सिनीयर डिविजन फास्ट ट्रेक कोर्ट की अदालत में पिछली तारीख पर ही शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के शिष्य और प्रतिनिधि स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने नया पक्षकार बनाने के लिए प्रार्थना पत्र दाखिल किया था। इस पर सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड लखनऊ के वकील तौहिद खान ने कहा कि कोर्ट में स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने पार्टी बनने का प्रार्थना पत्र दिया था, जिस पर आपत्ति पत्र दाखिल किया जायेगा क्योंकि जिस आधार पर स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद पार्टी बनना चाह रहें हैं, वह आधार पहले से ही मौजूद है। उधर, मामले में काशी विश्वनाथ मंदिर के वादमित्र वकील विजय शंकर रस्तोगी का कहना है काशी विश्वनाथ मंदिर का वादमित्र उन्हें बनाया गया है और किसी अन्य को वादमित्र बनने का अधिकार नहीं है। इसलिए उनके वादमित्र बनने की प्रार्थना पर आपत्ति की गई कि एक वादमित्र के रहते दूसरा कैसे हो सकता है? उन्होंने कहा कि कोर्ट में दूसरा वादमित्र बनने के लिए मौखिक आपत्ति दी गई है। कोर्ट ने लिखित आपत्ति के लिए 11 फरवरी तक की तारीख तय की है।

ये भी पढ़ें: त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव 30 अप्रैल तक पूरा करने का आदेश, चार पदों के लिए एक साथ डाले जाएंगे वोट

ये भी पढ़ें: कूड़ा उठवाने के लिए अब सभी को देना होगा यूजर चार्ज, सबका रेट अलग-अलग, देखें लिस्ट

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned