मोदी के लिए बनाना चाहता है विश्व रिकार्ड ये गंगापुत्र

मोदी के लिए बनाना चाहता है विश्व रिकार्ड ये गंगापुत्र
swimmer pradep

जानिए कौन है वो जो हाथ-पैर बांधकर उतरता है गंगा में तैरने 

वाराणसी.  गंगा की गोद में खेलते हुए उसे 32 वर्ष हो गए। गंगा की लहरों से हुए प्यार ने अब उसे जुनूनी बना दिया है। मां गंगा से मिले प्यार की बदौलत वह बड़े आराम से गंगा की लहरों पर हाथ-पैर बांधकर तैराकी करता है। उसकी इच्छा है कि वह इस विधा में विश्व रिकार्ड बनाए। विश्व रिकार्ड को वह देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को समर्पित करना चाहता है जिन्होंने स्वच्छ गंगा-निर्मल गंगा अभियान चला रखा है ताकि पूरे विश्व में बनारस और देश का नाम और ऊंचा हो। 
बात हो रही है बनारस के दरभंगा घाट निवासी 32 वर्षीय प्रमोद साहनी की। आपने तैराकी की कई विधाएं मसलन, फ्री स्टाइल, बैक स्ट्रोक, बटरफ्लाई के बारे में सुना होगा लेकिन क्या कभी आपने सुना है कि अमुक तैराक अपने हाथ-पैर बांधकर नदी में तैर रहा है। नहीं ना, तो आइए बनारस, यहां आपको दरभंगा घाट किनारे गंगा की लहरों पर प्रमोद हाथ-पैर बांधकर गंगा में तैरते दिखेंगे। 

पीठ पर पत्थर रख पार कर चुके हैं गंगा
बचपन में तैराकी के गुर सीखने के बाद कुछ अलग करने की ललक ने प्रमोद को इस मुकाम पर पहुंचाया है कि आज वह विश्व रिकार्ड बनाने का ख्वाब देख रहा है। प्रमोद ने छह साल पहले पीठ पर लगभग तीन किलो वजनी पत्थर रखकर और हाथ-पैर बांध गंगा को पार किया था। गंगा पार होने के बाद हौसला बढ़ा और आज वह घंटों गंगा की लहरों पर हाथ-पैर बांधकर तैर सकता है। प्रमोद के तैराकी की इस विधा को देखकर घाट पर घूमने आए सैलानी तालियों से उनका स्वागत करते हैं।
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned