BREAKING वाराणसी में शराब कारोबारी को गोली मारकर लूट

BREAKING वाराणसी में शराब कारोबारी को गोली मारकर लूट
shot

नए कप्तान को बदमाशों की चौबीस घंटे के भीतर सलामी, क्राइम ब्रांच का दावा जल्द करेंगे खुलासा


वाराणसी. भगदड़ की वारदात के बाद वाराणसी जिले की कप्तानी करने आए एसएसपी नितिन तिवारी को चार्ज लिए बारह घंटे भी नहीं गुजरे कि बदमाशों ने भी उन्हें सलामी ठोंक दी। मंगलवार देर रात अपराधियों ने कैंट थाना क्षेत्र के रमरेपुर में शराब कारोबारी को गोली मारकर लाखों रुपये लूट फरार हो गए। जिस समय बदमाशों ने वारदात को अंजाम दिया, नवागत एसएसपी नितिन तिवारी जिले में तैनात समस्त राजपत्रित पुलिस अधिकारियों के साथ पुलिस लाइन में बैठक कर रहे थे। 

जानकारी के अनुसार कैंट थाना क्षेत्र के रमरेपुर क्षेत्र निवासी शशिभूषण सिंह शराब के कारोबार से जुड़े हैं और लहुराबीर क्षेत्र स्थित एक शराब की दुकान में हिस्सेदार हैं। दुकान बंद होने के बाद बिक्री के रुपये डिग्गी में रखकर लहुराबीर से घर को बाइक से निकले। घर से कुछ दूर पहले ही बाइक सवार तीन बदमाशों ने उन्हें ओवरटेक करके रोका और पैर में गोली मार दी। गोली मारने के बाद बदमाश डिग्गी तोड़कर रुपये निकाल लिए और अंधेरे में फरार हो गए। 

क्षेत्रीय लोगों की सूचना पर परिजन और पुलिस मौके पर आए। घायल शराब कारोबारी को मलदहिया स्थित एक निजी नर्सिंग होम ले जाया गया जहां उनका उपचार चल रहा है। उनकी हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। घटना के बाद मौके पर पहुंची क्राइम ब्रांच टीम का दावा है कि लूट की घटना का शीघ्र खुलासा हो जाएगा। बदमाशों ने घर के नजदीक घटना को अंजाम दिया है। गौरतलब है कि कप्तान के चार्ज लेने के साथ ही क्राइम ब्रांच ने उन्हें तोहफे में बनारस के आधा दर्जन बदमाश की मय असलहा-कारतूस गिरफ्तारी तोहफे में दी थी। लेकिन जरायम की दुनिया और पुलिस महकमे में एक खेल चलता है, जब भी जिले में कोई नया कप्तान आता है तो अपराधी और पुलिस दोनों ही कप्तान को सलामी देने की कोशिश करते हैं। कभी कोई बाजी मारता है तो कभी कोई।  
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned