बोले एमएलसी चंचल, सपा की लुटिया डुबाएगी पुलिस 

बोले एमएलसी चंचल, सपा की लुटिया डुबाएगी पुलिस 
mlc chanchal

जान से मारने की धमकी के मामले में पुलिस के रवैया से खिन्न एमएलसी

वाराणसी. सपा मुखिया मुलायम सिंह परिवार से रिश्ते और शिवपाल यादव का खासमखास होने के बाद भी एमएलसी चंचल के मामले में वाराणसी और आजमगढ़ पुलिस का रवैया ऐसा है जिसके कारण चंचल की सपा से तल्खी बढ़ गई है। चर्चाओं का बाजार गरम हो गया है कि पार्टी के आला कमान की अनदेखी के चलते खिन्न चंचल जल्द ही बीजेपी का दामन थाम सकते हैं। 

गौरतलब है कि दो दिन पूर्व आजमगढ़ जेल में बंद कुख्यात संजय यादव ने गाजीपुर के एमएलसी विशाल सिंह चंचल को एक सरकारी टेंडर के मामले में जान से मारने की धमकी दी थी। इस मामले में चंचल ने आइजी जोन से लेकर एसएसपी तक गुहार लगाई लेकिन पुलिस ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया। दो दिन बाद किसी तरह मामले में बड़ागांव थाने में मुकदमा दर्ज किया गया। 

एमएलसी चंचल से जब पत्रिका उत्तर प्रदेश के प्रतिनिधि ने उनसे बीजेपी में शामिल होने के बाबत बात की तो उन्होंने सीधे कहा कि फिलहाल तो कोई इरादा नहीं है लेकिन वर्तमान सरकार जिस तरीके से काम कर रही है उससे भविष्य में अन्य दलों के लिए रास्ते खुले हैं। बीजेपी से कोई परहेज नहीं है लेकिन अभी समय है। 

एमएलसी चंचल ने धमकी वाले प्रकरण पर कहा कि उत्तर प्रदेश पुलिस ही सपा सरकार की लुटिया डुबाने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। एक तरफ सीएम अखिलेश यादव कानून-व्यवस्था को लेकर पुलिस अधिकारियों पर चाप चढ़ाते हैं तो दूसरी तरफ आजमगढ़ जेल से ही उन्हें धमकी मिल रही है। मुलायम सिंह यादव के संसदीय क्षेत्र से एक अपराधी जनप्रतिनिधि को धमकी दे रहा है लेकिन पुलिस हाथ पर हाथ धरे है।

चंचल ने सवाल किया कि आप ही बताएं अड़तालीस घंटे से अधिक समय बीतने पर भी पुलिस ने अब तक यह पता लगाने की कोशिश तक नहीं कि फोन आजमगढ़ जेल से ही आया था, जेल में फोन पहुंचा तो क्या यूपी पुलिस ने अधिकारियों ने जेल अधिकारियों पर कार्रवाई की। जब एक जनप्रतिनिधि के मामले में पुलिस का यह रवैया है तो फिर आम आदमी के साथ क्या होता होगा, अंदाजा लगाया जा सकता है। ऐसा लग रहा है कि सपा सरकार को दोबारा सत्ता में आने से रोकने का प्रयास कर रही है। 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned