मुलायम सिंह यादव के ऐलान से आजमगढ़ को लगा तगड़ा झटका, अब इस बाहुबली को मिल सकता है फायदा

मुलायम सिंह यादव के ऐलान से आजमगढ़ को लगा तगड़ा झटका, अब इस बाहुबली को मिल सकता है फायदा

Devesh Singh | Publish: Jun, 14 2018 01:33:51 PM (IST) Varanasi, Uttar Pradesh, India

बसपा ने भी लगायी है ताकत,जानिए क्या है कहानी

वाराणसी. लोकसभा चुनाव 2014में नरेन्द्र मोदी की लहर में भी मुलायम सिंह का ेचुनाव जिताने वाले आजमगढ़ को तगड़ा झटका लग गया है। मुलायम सिंह यादव के नये ऐलान से इस बाहुबली को बड़ा फायदा हो सकता है। बसपा ने भी आजमगढ़ पर अपनी निगाहे लगायी थी अब देखना है कि किसी दल के प्रत्याशी को लाभ मिलता है।
यह भी पढ़े:-अखिलेश व मायावती सबसे खास कारण से पीएम मोदी को घेरने के लिए बनाया महागठबंधन, सफल हुआ दांव तो बिखर जायेगी बीजेपी


मुलायम सिंह यादव अब आजमगढ़ से संसदीय चुनाव नहीं लड़ेंगे। सपा ने ऐलान कर दिया है कि लोकसभा चुनाव 2019 में मुलायम सिंह यादव मैनपुरी से प्रत्याशी होंगे। जबकि पूर्व सीएम अखिलेश यादव कन्नौज से चुनाव लड़ेंगे। आजमगढ़ के सांसद मुलायम सिंह यादव का मैनपुरी से चुनाव लडऩा नये सियासी समीकरण को जन्म दे सकता है। इस सीट पर पूर्व सांसद व बाहुबली नेता रमाकांत यादव के पहले ही सपा ज्वाइन करने की अटकले लग रही है। अब मुलायम सिंह यादव के चुनाव नहीं लडऩे से रमाकांत यादव को बड़ा फायदा हो सकता है। रमाकांत यादव सपा ज्वाइन कर लेते हैं तो आजमगढ़ से उन्हें सपा प्रत्याशी के तौर पर लोकसभा चुनाव 2019 का टिकट मिल सकता है जो बीजेपी के लिए बड़ा झटका होगा। आजमगढ़ में बीजेपी के पास ऐसा कोई नेता नहीं है जो बाहुबली रमाकांत यादव की जगह को भर सके।
यह भी पढ़े:-अखिलेश व मायावती के गठबंधन का असर, पहली बार इस सीट से भी चुनाव लड़ कर पीएम मोदी खेलेंगे बड़ा दांव

बसपा भी आजमगढ़ से अपने प्रत्याशी को लड़ा सकती है चुनाव
सपा व बसपा गठबंधन करके लोकसभा चुनाव 2019 लडऩे वाले हैं। आजमगढ़ सीट अभी तक सपा के पास है और जिस तरह से अखिलेश यादव ने सार्वजनिक रुप से कहा है कि वह बसपा से कम सीट भी लेने को तैयार है ऐसी स्थिति में आजमगढ़ पर बसपा अपना दावा करती है तो सपा भी यह सीट देने को तैयार हो जायेगी। बसपा के लिए भी आजमगढ़ सीट मुफीद है दलित व मुस्लिम वोटरों का यादव का साथ मिल जायेगा तो सीएम योगी के प्रत्याशी को चुनाव जितना कठिन होगा। ऐसे में बसपा भी आजमगढ़ सीट पर अपना दावा ठोक सकती है।
यह भी पढ़े:-पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र में हुई पांच बड़ी घटना जो बताती है कि सीएम योगी सरकार की नहीं है हनक

Ad Block is Banned