scriptMunshi Premchand Birth anniversary celebrate in Lamhi | Premchand Jayanti samaroh: कथा सम्राट प्रेमचंद जयंती पर लमही में लगा मेला, जीवंत हुए मैकू, जियावन और घीसू | Patrika News

Premchand Jayanti samaroh: कथा सम्राट प्रेमचंद जयंती पर लमही में लगा मेला, जीवंत हुए मैकू, जियावन और घीसू

कथा सम्राट मुंशी प्रेमचंद का गांव लमही अब शहर का हिस्सा बन गया है। ऐसे में ये पहला मौका रहा जब शहरी आबो-हवा के बीच कथा सम्राट की जयंती पर मेला लगा। हालांकि जयंती समारोह प्रेमचंद स्मारक की बजाय रामलीला मैदान में आयोजित किया गया। स्मारक स्थल पर चुनिंदा लोगों को ही आमंत्रित किया गया था।

वाराणसी

Published: July 31, 2022 05:40:09 pm

वाराणसी. बदलते बनारस में अब कथा सम्राट मुंशी प्रेमचंद का गांव लमही भी अब शहरी हो चला है। ऐसे में कंक्रीट के जंगलों में स्थित रामलीला मैदान पर कथा सम्राट की जयंती पर मेला लगा। हालांकि कोरोना काल के दो वर्ष बाद आयोजित मेला में काफी लोग जुटे। लेकिन यहां आए लोगों को तब निराशा हाथ लगी जब पांच करोड़ की लागत से निर्मित और बनारस हिंदू विश्वविद्यालय द्वारा संचालित प्रेमचंद शोध संस्थान में हर किसी को जाने की इजाजत नहीं रही। महज चुनिंदा लोग ही वहां पहुंच सके।
कथा सम्राट प्रेमचंद जयंती पर लमही में लगा मेला, जीवंत हुए मैकू, जियावन और घीसू
कथा सम्राट प्रेमचंद जयंती पर लमही में लगा मेला, जीवंत हुए मैकू, जियावन और घीसू
कथा सम्राट प्रेमचंद जयंती पर लमही में लगा मेला, जीवंत हुए मैकू, जियावन और घीसूशोध संस्थान में जाने को साहित्यकारों ने जताया विरोध की नारेबाजी

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय द्वारा संचालित मुंशी प्रेमचंद शोध संस्थान में प्रवेश के लिए जब कुछ चुनिंदा लोगों को ही प्रवेश मिला तो वहां पहुंचे साहित्यकारों को ये काफी नागवार लगा। ऐसे में उन्होंने नारेबाजी की। दरअसल साहित्यकारों ने जब मुंशीजी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर शोध संस्थान में चल रहे बौद्धिक आयोजन में शामिल होने की कोशिश की तो सुरक्षा गार्ड ने द्वार खोलने से इंकार कर दिया। इससे खफा पूर्व जज चंद्रभाल सुकुमार, दुर्गा श्रीवास्तव, प्रो. विजय बहादुर, सुरेंद्र वाजपेयी, प्रमोद सिंह, जय शंकर जय, कुंवर सिंह कुंवर, ईश्वरचंद पटेल, राजन सिंह आदि ने शोध संस्थान के द्वार के समक्ष खड़े होकर मुर्दाबाद के नारे लगाना शुरू कर दिया। शोध संस्थान के बाहर शोर सुन कर आयोजन पक्ष के कुछ वरिष्ठ सदस्य बाहर निकले और साहित्यकारों को नाराज देख उनसे क्षमायाचना की। फिर ससम्मान अंदर ले गए।
कथा सम्राट प्रेमचंद जयंती पर लमही में लगा मेला, जीवंत हुए मैकू, जियावन और घीसूजीवंत हुए उपन्यास सम्राट के किरदार

यह सब हिंदी कथा साहित्य के अनन्य सेवक प्रेमचंद की 142वीं जयंती के मौके पर उनके पैतृक गांव लमही में दो साल बाद फिर से उनकी लेखनी जीवंत हुई। रामलीला स्थल पर मैकू, जियावन, घीसू की दीनता, ठाकुर की ज्यादतियों और डा. चड्ढा के अहंकार ने वर्तमान को संदर्भित किया। विषम हालात से जूझती निर्मला का दर्द छलका तो कभी मुंशीजी की कहानियों के बहुचर्चित किरदार जोखू, हरिया, गंगी और भीमा की विडंबनाओं ने आकार लिया। भोंदू, बिसुआ, भगत की संवेदनशीलता और सहजता को भी वर्तमान समय-स्वभाव के अनुसार स्थान मिला।
कथा सम्राट प्रेमचंद जयंती पर लमही में लगा मेला, जीवंत हुए मैकू, जियावन और घीसूरंगकर्मियों की प्रस्तुति रही यादगार

संस्कृति विभाग की ओर से आयोजित लमही महोत्वस के मौके पर नगर की कई प्रतिष्ठित रंगकर्म संस्थाओं और कलाकारों ने यादगार प्रस्तुतियां दीं। वहीं ग्रामीण बच्चों और महिलाओं का हुजूम इन प्रस्तुतियों का साक्षी बना। बुजुर्ग महिलाओं से लेकर छोटे-छोटे बच्चों तक में प्रेमचंद की कहानियों पर आधारित प्रस्तुतियों के प्रति समान रूप से उस्तुकता दिखी।
मुंशी जी के चहेतों का लगा जमघट

इस मौके पर साहित्यकार, कलाकार, रंगकर्मी तो लमही महोत्सव में पहुंचे ही, जिले के आला अफसरों ने भी उपस्थिति दर्ज कराई। लमही आने वालों में कुछ ऐसे भी थे जो करीब एक दशक बाद आए थे। वो सभी अपनी पुरानी स्मृतियों में रची-बसी लमही को तलाश करते नजर आए। कोई मुंशीजी के पैतृक आवास के कमरों और खिड़कियों को निहारने में तल्लीन नजर आया तो कुछ शहरी युवा कलाकारों का समूह मुंशीजी के आवास की छत पर चढ़ कर फोटो सेशन में व्यस्त दिखे।
छात्रों ने मुंशी जी के घर का कोना-कोना छान मारा

वहीं सनबीम स्कूल वरुणा के विद्यार्थी भी मौके पर पहुंचे थे। उनके आकर्षण का केंद्र मुंशी जी की आवास था। लिहाजा इन विद्यार्थियों नेमुंशीजी के घर का कोना कोना छान मारा। वहीं कथाकार, साहित्याकर, पत्रकार मुंशी प्रेमचंद के पैतृक आवास के आंगन के पूरबी छोर वाले दालान में शायर कुंवर सिंह कुंवर ने अपनी गजलों और नज्मों से हाल ए लमही बयां कर लोगों के अंतःमन को झकझोरा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार का बड़ा बयान, बापू की छोटी सी भूल ने भारत के टुकड़े करा दिएHimachal Pradesh: जबरदस्ती धर्म परिवर्तन करवाने पर होगी 10 साल की जेल, लगेगा भारी जुर्मानाDGCA ने एयरपोर्ट पर पक्षियों के हमले को रोकने के लिए जारी किया दिशा-निर्देश'हर घर तिरंगा' अभियान में शामिल हुई PM नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन, बच्‍चों के संग फहराया राष्‍ट्रीय ध्‍वज7,500 स्टूडेंट्स ने मिलकर बनाया सबसे बड़ा ह्यूमन फ्लैग, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ नामबिहारः सत्ता गंवाते ही NDA के 3 सांसद पाला बदलने को तैयार, महागठबंधन में शामिल होने की चल रही चर्चा'फ्री रेवड़ी ' कल्चर व स्कूल के मुद्दे पर संबित्र पात्रा ने AAP को घेरा, कहा- 701 स्कूलों में प्रिंसिपल नहीं, 745 स्कूलों में नहीं पढ़ाया जाता विज्ञानPM मोदी ने कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लेने वाले दल से मुलाकात की, कहा- विजेताओं से मिलकर हो रहा गर्व
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.