5555 कराेेेड़ की जल योजना की सौगात देंगे पीएम मोदी, मोहन भागवत कसेंगे संगठन के पेंच

  • मिर्जापुर व सोनभद्र की पेयजल योजना का शिलान्यास
  • अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल पूर्वी क्षेत्र की बैठक

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

वाराणसी. पूर्वांचल में एक तरफ सौगातों की झड़ी लगेगी तो दूसरी ओर संगठन को लेकर मंथन होगा और विभिन्न मुद्दों पर रणनीति बनेगी। पीएम मोदी दूर दिल्ली में बैठकर वर्चुअल माध्यम से सोनभद्र और मिर्जापुर के सुदूर ग्रामीण पहाड़ी क्षेतों की जनता को पीने का पानी मुहैया कराने के लिये 5555.38 करोड़ रुपये लागत की योजनाओं की सौगात देंगे। दूसरी ओर प्रयागराज में आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक लेंगे। कहा जा रहा है कि सोनभद्र में पेयजल योजना के शुभारंभ में शामिल होने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ संघ की बैठक में भी शामिल हो सकते हैं।

 

इसे भी पढ़ें- पीएम-सीएम देंगे 5555 करोड़ की पेयजल परियोजनओं की सौगात, सोनभद्र-मिर्जापुर में 'हर घर नल योजना’ की शुरआत

मिर्जापुर और सोनभद्र की जनता से पीएम मोदी वादा करके गए थे कि उनकी पेयजल समस्या दूर कर दी जाएगी उनके घरेां में सीधे नल से पानी पहुंचेगा। इसी वादे के तहत उत्तर प्रदेश के सोनभद्र और मिर्जापुर में दुर्गम पहाड़ी और ग्रामीण इलाकों में पेयजल व्यवस्था के लिये 5555.38 करोड़ की योजनाओं का शुभारंभ होने जा रहा है।


इसके तहत विंध्य क्षेत्र में पाइपलाइन पेयजल योजनाओं के जरिये 2995 गांवों की 41,41,348 जनसंख्या को पाइप लाइन के माध्यम से उनके घरों में नल के जरिये पेयजल मुहैया कराया जाएगा। विंध्य क्षेत्र के 3,393 राजस्व गांवों में कुल 45,40,829 लोग रहते हैं। इनमें से 398 गांवों को 126 पूरी हो चुकी और 17 चल रही पाइपलाइन से पेयजल योजनाओं से कवर किया जा चुका है। अब बाकी बचे 2995 गांवों के लिये पेयजल योजनाओं की रविवार को शुरुआत की जाएगी। 22 नवंबर को इसका मुख्य कार्यक्रम सोनभद्र जिले के करमांव ब्लाॅक अंतर्गत चतरा गांव में होगा। यहां मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद मौजूद रहेंगे, जबकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये शिलान्यास करेंगे। इस दौरान पीएम मोदी मिर्जापुर और सोनभद्र के कुछ ग्रामीणों सं संवाद भी करेंगे।


संगठन का पेंच कसेंगे भागवत

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की पूर्वी उत्तर प्रदेश क्षेत्र की दो दिन की बैठक प्रयागराज के यमुनापार के गौहनिया में वशिष्ठ वात्सल्य कॉलेज में 22 नवंबर यानि रविवार से शुरू होगी। इस बैठक में खुद सर संघचालक मोहन भागवत मौजूद होंगे। उनके अलावा दत्तात्रेय होसबोले, डाॅक्टर कृष्णगोपाल, डाॅक्टर मनमोहन वैद्य, मुकुन्द, अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख सुरेश चन्द्र, अखिल भारतीय सह सेवा प्रमुख राजकुमार मटाले भी इस बैठक में शामिल हो सकते हैं। आठ सत्रों पर आधारित दो दिवसीय बैठक में राम मंदिर की दिव्यता और भव्यता को लेकर जनजागरण चलाए जाने, लव जिहाद, धर्मांतरण पर अंकुश, आत्मनिर्भर भारत के लिये ग्राम्य विकास, गो संरक्षण आदि मुद्दे चर्चा का विषय हो सकते हैं। बैठक कोविड प्रोटोकाॅल और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए होगी, इसी के मद्देनजर बैठक में शामिल होने वालों की संख्या सीमित रखी गयी है।

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned