scriptNEET-UG fraud case Dr Afroz suspended | NEET-UG फर्जीवाड़ा मामले में वाराणसी जेल में बंद डॉ. अफरोज निलंबित | Patrika News

NEET-UG फर्जीवाड़ा मामले में वाराणसी जेल में बंद डॉ. अफरोज निलंबित

NEET-UG फर्जीवाड़ा मामले में गिरफ्तार और वाराणसी कारागार में बंद नीट सॉल्वर गैंग के सदस्य डॉ अफरोज अहमद को शान ने निलंबित कर दिया है। बता दें कि डॉ अफरोज लखनऊ के मोहनलालगंज पीएचसी में चिकित्साधिकारी पद पर तैनात रहा। साथ ही डॉ. अफरोज के खिलाफ विभागीय कार्रवाई भी शुरू कर दी गई है।

वाराणसी

Published: April 09, 2022 05:20:22 pm

वाराणसी. NEET-UG फर्जीवाड़ा मामले में वाराणसी की जेल में बंद डॉ अफरोज को शासन ने निलंबित कर दिया है। वो लखनऊ के मोहनलालगंज पीएचसी में चिकित्साधिकारी पद पर तैनात रहा। वाराणसी के पुलिस कमिश्नर ए सतीश गणेश ने डॉ. अफरोज अहमद को लेकर अपर मुख्य सचिव चिकित्सा को रिपोर्ट भेजी थी, जिस पर ये निलंबन की कार्रवाई हुई है। साथ ही डॉ. अफरोज के खिलाफ विभागीय कार्रवाई भी शुरू की गई है। विभागीय कार्रवाई पूरी होने के बाद आरोप साबित होने पर डॉ. अफरोज को सरकारी सेवा से बर्खास्त किया जाएगा।

NEET-UG  फर्जीवाड़े का आरोपी डॉ अफरोज
NEET-UG फर्जीवाड़े का आरोपी डॉ अफरोज
15 मार्च को गिरफ्तार हुआ था डॉ अफरोज

बलरामपुर जिले के तुलसीपुर थाना के नई बाजार पुरवा के मूल निवासी और हाल में लखनऊ के कैसरबाग स्थित गुडलक स्क्वायर अपार्टमेंट रहने वाले डॉ. अफरोज को वाराणसी क्राइम ब्रांच ने बीते 15 मार्च को गिरफ्तार किया था। 26 मार्च को अफरोज सहित सॉल्वर गैंग के 9 सदस्यों पर गैंगेस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की गई।
वाराणसी पुलिस कमिश्नर की संस्तुति पर हुआ निलंबन

पुलिस कमिश्नर वाराणसी ए सतीश गणेश ने डॉ. अफरोज के खिलाफ विभागीय कार्रवाई के संबंध में लखनऊ के सीएमओ और एसीएस चिकित्सा को रिपोर्ट भेजी थी। पुलिस कमिश्नर की संस्तुति पर डॉ. अफरोज को निलंबित करने का निर्णय लिया गया।
जीएवीएम मेडिकल कॉलेज कानपुर से पास आउट है डॉ अफरोज

डॉ अफरोज अहमद कानपुर के जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज से 2017-18 में पास आउट है। 2019 में उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग से मेडिकल ऑफिसर के पद पर चुना गया।वर्तमान में लखनऊ के दाउदनगर पीएचसी एवं मोहनलालगंज सीएचसी में बतौर चिकित्सा अधिकारी तैनात था।
पत्नी भी हैं डॉक्टर
डॉ अफरोज का 2020 में डॉक्टर शिफा खान से निकाह हुआ जो लखनऊ के मेदांता हॉस्पिटल में कार्यरत थी।

सितंबर 2021 में हुआ था खुलासा

NEET-UG 2021, 12 सितंबर को वाराणसी के सारनाथ क्षेत्र स्थित एक स्कूल में आयोजित की गई थी। परीक्षा केंद्र से त्रिपुरा की रहने वाली हिना विश्वास की जगह परीक्षा देते हुए BHU की मेडिकल छात्रा जूली कुमारी, पकड़ी गई थी। इस मामले में अब तक सॉल्वर गैंग के सरगना नीलेश सिंह उर्फ पीके सहित 19 आरोपी अब तक गिरफ्तार किए जा चुके हैं।
अभी 16 आरोपियों की है तलाश
इस मामले में पुलिस को अभी 16 से ज्यादा आरोपियों की तलाश है। पुलिस कमिश्नर ए. सतीश गणेश ने बताया कि NEET-UG में वांछित अन्य आरोपियों की तलाश लगातार जारी है। सभी आरोपी गिरफ्तार किए जाएंगे और सभी के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

पंजाब की राह राजस्थान: मंत्री-विधायक खोल रहे नौकरशाही के खिलाफ मोर्चा, आलाकमान तक शिकायतेंद्वारकाधीश मंदिर में पूजा के साथ आज शुरू होगा BJP का मिशन गुजरात, मोदी के साथ-साथ अमित शाह भी पहुंच रहेVIP कल्चर पर पंजाब की मान सरकार का एक और वार, 424 वीआईपी को दी रही सुरक्षा व्यवस्था की खत्मओडिशा में "भ्रूण लिंग" जांच गिरोह का भंडाफोड़, 13 गिरफ्तारमां की खराब तबीयत के बावजूद बल्लेबाजों पर कहर बनकर टूटे ओबेड मैकॉय, संगकारा ने जमकर की तारीफRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चAnother Front of Inflation : अडानी समूह इंडोनेशिया से खरीद राजस्थान पहुंचाएगा तीन गुना महंगा कोयला, जेब कटना तयसुकन्या समृद्धि योजना में सरकार ने किए बड़े बदलाव, जानें क्या है नए नियम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.