OMG डॉक्टर की लापरवाही से प्रसव के दौरान नवजात की टांग टूटने से मौत

OMG डॉक्टर की लापरवाही से प्रसव के दौरान नवजात की टांग टूटने से मौत
neonatal death by negligence doctor

जानिये फिर क्या किया ग्रामीणों ने और क्या मिला आश्वासन

वाराणसी. सरकारी अस्पताल के डॉक्टर ने ऐसा काम कर दिया की परिजनों ने सपने में भी कल्पना नहीं की थी। वह तो घर में एक नन्हे मेहमान की किलकारियों की आवाज सुनने को बेताब थे लेकिन लेबर रूम से ऐसी खबर आई कि उनके हाथ-पाँव सुन्न हो गए। सारी खुशियाँ पल में काफूर हो गयी। डॉक्टर की लापरवाही के चलते नवजात की मौत हो गयी। सूचना पर प्रधान शिव कुमारी देवी और परिजन निजामुद्दीन के नेतृत्व में सैकडा ग्रामीण मौके पर पहुंच कर डॉक्टरो के खिलाफ जमकर हंगामा और घेराव शुरू कर दिया।परिजन डॉक्टर और नर्स के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग पर अड़ थे। सीएमओ द्वारा कार्यवाही का आश्वासन दिए जाने के बाद चार बजे घेराव समाप्त हुआ।

जानकारी के अनुसार सेवापुरी थाना क्षेत्र के हाथी गाँव निवासी निजामुद्दीन की पत्नी रुबीना को आज सुबह प्रसव पीड़ा शुरू हुई। परिजन उसे लेकर तत्काल सीएचसी हाथी गए। डॉक्टर और नर्स की लापरवाही से सामान्य प्रसव दौरान नवजात के दोनों पैर टूट गए। घटना की जानकारी मिलते ही हाथी की ग्राम प्रधान शिवकुमारी देवी व मनीष सिंह के साथ सैकड़ो ग्रामीण प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर पहुंच गए और हंगामा खड़ा कर दिया। स्वास्थ्य केंद्र का घेराव कर लापरवाह डॉक्टर और नर्स के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की मांग करने लगे। हंगामा की जानकारी पर सीएमओ ने प्रधान से वार्ता की। फोन पर वार्ता के बाद प्रधान ने बताया कि सीएमओ ने कार्यवाही का आश्वासन दिया है। सीएमओ को चेतावनी दी गयी है की यदि डॉक्टर और नर्स के खिलाफ अबिलम्ब कार्यवाही नही हुई तो पुनः केंद्र का घेराव कर ताला बंदी किया जाएगा। सीएमओ डा.बी बी सिंह ने बताया कि मामला संज्ञान में है। पीड़ित के शिकायत पर मामले की जांच करायी जायेगी,यदि डॉक्टर और नर्स की लापरवाही पायी गई तो कड़ी कार्यवाही होगी।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned