अब प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र बनारस के एक लाख परिवारों का हो सकेगा मुफ्त में इलाज

इन परिवारों को पांच लाख रूपये तक का मुफ्त में इलाज एक साल तक किया जायेगा।

By: Ashish Shukla

Published: 25 Apr 2018, 07:36 AM IST

वाराणसी. पीएम मोदी की महत्वाकांक्षी योजना आयुष्मान भारत राष्ट्रीय स्वास्थ सुरक्षा मिशन के प्रथम चरण में वाराणसी के आठ विकास खंडों के एक लाख परिवारों चयन किया गया है। इन परिवारों को पांच लाख रूपये तक का मुफ्त में इलाज एक साल तक किया जायेगा।

जी हां आयुष्मान योजना के तहत एक लाख परिवारों के पांच लाख तक का इलाज किये जाने के लिए मंगलवार वारणसी के आठ विकास खंडों चोलापुर, हरहुआ, बड़ागांव पिंडरा, सेवापुरी काशी विद्यापीठ, अराजीलाइन ब्लाकों में प्रशिक्षण शिविर लगाये गये। इन शिविरों में स्वास्थ विभाग के अधिकारियों ने और चिकित्सा अधीक्षकों सभी आशा एएनएन को आयुष्मान भारत कार्यक्रम के बारे में बताया गया। इतना ही नहीं इन सभी प्रशिक्षण कर रहे लोगों को ग्रामसभा वार सूची भी उपलब्ध कराई गई।

पूरे प्रदेश 1.18 परिवारों का किया गया है चयन

बतादें कि पीएम मोदी की इस महत्वाकांक्षी योजना का लाभ पहुंचाने ते लिए पूरे प्रदेश में 1.18 करोड़ परिवारों का चयन किया गया है। इसके लिए सरकार ने तेजी से काम भी शुरू कर दिया है। साथ ही इस योजना को लेकर सरकार की तरफ से जागरूकता कैंपेन भी खूब लगाया जा रहा है।

चयनित निजी अस्पतालों में भी हो सकेगा इलाज

इस योजना के तहत बीमित व्यक्ति सिर्फ सरकारी ही नहीं बल्कि निजी अस्पतालों में भी इलाज करा सकेगा। निजी अस्पतालों को इस योजना भी जोड़ने के लिए सरकार ने चयनित कर लिया है। क्योंकि पैसे की कमी के चलते काफी लोग सिर्फ सरकारी अस्पतालों में ही जाते थे जोकि अब निजी अस्पतालों में भी जा सकेंगे। साथ ही यह योजना सरकारी अस्पतालों पर बढ़ती भीड़ का दबाव भी शायद कम कर पायेगी।

क्या है आयुष्मान भारत योजना
केंद्र सरकार ने वित्त वर्ष 2018-19 के आम बजट में आयुष्मान भारत योजना शुरू करने की घोषणा की थी । इस महत्वाकांक्षी राष्ट्रीय स्वास्थ्य संरक्षण योजना के तहत प्रति वर्ष 10 करोड़ गरीब परिवार को उन्नत इलाज के लिए 5-5 लाख रुपये तक का स्वास्थ्य बीमा कवर उपलब्ध कराये जाने के सरकार ने एलान किया था।

Ashish Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned