जाहिल और नचनिया हैं कांग्रेस अध्यक्ष राजबब्बर

जाहिल और नचनिया हैं कांग्रेस अध्यक्ष राजबब्बर
rajbabber

जानिए किसने दिया फिल्म अभिनेता से राजनेता बने करारा जवाब

वाराणसी. उत्तर प्रदेश का विधानसभा चुनाव 2017 का संग्राम कई मायने में याद रखा जाएगा। चुनावी रणभूमि में उतरे राजनीतिक दलों के योद्धा चुभते तीरों व पोस्टर के जरिए वार कर रहे हैं। जुबानी जंग इस कदर बढ़ गई है कि एक बयान पार्टी की किस्मत बदल दे रहा है, कोई फर्श से अर्श पर तो कोई अर्श से फर्श पर आ रहा है। 

फिल्म अभिनेता से राजनीति में कदम रखने के बाद एक लंबा सफर तय करते हुए राजबब्बर को इस बार उत्तर प्रदेश कांग्रेस की कमान सौंपी गई है। हालांकि कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद से अब तक राजबब्बर के खाते में कोई खास उपलब्धि हाथ नहीं लगी है लेकिन उनके एक बयान ने ओवैसी समर्थकों को ऐसा भड़काया है जिससे मुस्लिम वोट बैंक पर खासा असर पडऩे की आशंका है। जबकि कांग्रेस मुस्लिम और ब्राह्मण वोट बैंक के सहारो ही उत्तर प्रदेश के चुनावी रण में इस बार ताल ठोंक रही है। ऐसे में कांग्रेस अध्यक्ष द्वारा ओवैसी पर कमेंट करने के बाद समर्थकों ने सोशल मीडिया पर राजबब्बर के खिलाफ जिस तरह से जंग छेड़ दी है कांग्रेस के लिए मुश्किल घड़ी है। 

27 साल से यूपी का किला फतह करने का ख्वाब देख रही कांग्रेस के यूपी अध्यक्ष राजबब्बर ने बीते दिनों कानपुर में कार्यकर्ताओं से मुलाकात के बाद बातचीत में एआईएमआई चीफ ओवैसी को छिछोरा कहा था। राजबब्बर ने कहा था कि ओवैसी का यूपी में कोई जनाधार नहीं है और वह छिछोरों की तरह यूपी में घूम रहे हैं। 


राजबब्बर का यह बयान जैसे ही सोशल मीडिया पर वायरल हुआ ओवैसी समर्थक भड़क उठे। एआईएमआईएम के उत्तर प्रदेश फेसबुक सोशल पेज को हैंडल करने वाले ओवैसी की पार्टी के पदाधिकारी ने राजब्बर को जाहिल कहते हुए पोस्ट किया। पोस्ट में राजबब्बर को संबोधित करते हुए लिखा कि अबे जाहिल ओवैसी के पास इतनी डिग्रियां हैं कि उसे जला दिया जाए तो एक टाईम का भोजन तैयार हो जाए। नाचने-गाने वाले कांग्रेस के यूपी अध्यक्ष अब तेरा क्या होगा।

उत्तर प्रदेश एआईएमआईएम पर यह पोस्ट जारी होते ही राजबब्बर के खिलाफ अभद्र टिप्पणियों की भरमार हो गई है। एक पोस्ट में लिखा था कि ऐसी भाषा का प्रयोग नहीं करना चाहिए तब ओवैसी समर्थक ने पलटकर लिखा कि ये बताओ कि शुरूआत किसने की थी। 

फिलहाल उत्तर प्रदेश का विधानसभा चुनाव दिलचस्प मोड़ पर खड़ा है। नित राजनेता व्यंग बाण छोड़ रहे हैं और जनता भी चुनाव के मानसूनी फुहार का आनंद उठा रही है।  
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned