पाकिस्तान में कराइए सुंदरकांड का पाठ, काशी में बिछा देंगे रेड कारपेट, हनुमान जयंती पर किसने कही यह बात, पढि़ए पूरी खबर

पाकिस्तान में कराइए सुंदरकांड का पाठ, काशी में बिछा देंगे रेड कारपेट, हनुमान जयंती पर किसने कही यह बात, पढि़ए पूरी खबर
pakistani high commissioner and artist protest in banaras

हिंदू युवा वाहिनी के बाद भाजपा भी उतरी पाकिस्तान के उच्चायुक्त व कलाकार गुलाम अली के विरोध में संकट मोचन मंदिर में गुलाम अली की प्रस्तुति से नाराज शिवसेना ने चस्पा किए पोस्टर

विकास बागी

वाराणसी. काशी के प्रसिद्ध संकट मोचन संगीत समारोह में पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित और कलाकार गुलाम अली को न्यौता देने के का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। हिंदू युवा वाहिनी के बाद भाजपा और शिवसेना भी इस प्रकरण में कूद पड़ी है। गुलाम अली के विरोध में शिवसेना ने वाराणसी में जगह-जगह पोस्टर चस्पा किए हैं जिसमें लिखा है कि काशी से गुलाम अली वापस जाओ। गौरतलब है कि संकट मोचन के महंत विश्वंभर नाथ मिश्र ने 26 अप्रैल से शुरू हो रहे संकट मोचन संगीत समारोह में पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित और गायक गुलाम अली को न्यौता दिया है। गुलाम अली संगीत समारोह की पहली निशा में अपनी प्रस्तुति देंगे। 
याद दिला दें कि यह काशीवासियों की आस्था का केंद्र विश्व प्रसिद्ध यह वहीं संकट मोचन मंदिर है जहां पर सात मार्च 2006 को आतंकियों ने विस्फोट किया था जिसमें कई बेगुनाह मारे गए थे। मंदिर में विस्फोट पाकिस्तान के इशारे पर भारत में मौजूद आतंकी संगठनों ने किया था। 
 
महंत जी, आप पाकिस्तान में कराइए सुंदर कांड

भाजपा नेता गुलशन कपूर ने संकट मोचन मंदिर के महंत परिवार के इस कदम पर कड़ा एतराज जताते हुए कहा है कि महंज जी कह रहे हैं कि इससे दोनों मुल्कों के बीच संबंध मधुर हो सकते हैं। हम भी महंत जी की बात से इत्तेफाक रखते हैं। गुलाम अली व पाकिस्तान उच्चायुक्त के स्वागत में रेड कारपेट बिछाने को भाजपा तैयार हैं लेकिन शर्त यह है कि महंज जी अपने मित्र गुलाम अली व पाकिस्तान के उच्चायुक्त से पाकिस्तान की धरती पर सुंदरकांड का पाठ कराने की व्यवस्था कराएं। भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ काशीवासी भी पाकिस्तान जाएंगे सुंदरकांड का पाठ कराने के लिए। पाकिस्तान यदि आपके इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लें तो हम पाकिस्तानी अधिकारी व कलाकारों को सिर आंखों पर रखेंगे। 

शहीदों का अपमान कर रहा महंत परिवार 

भाजपा नेता व पार्षद सत्यम सिंह ने भी पाकिस्तान के उच्चायुक्त व गजल सम्राट कहे जाने वाले गुलाम अली के वाराणसी में संकट मोचन संगीत समारोह में शिकरत करने की घोर आलोचना की है। महंत परिवार पर तुष्टिकरण की राजनीति का आरोप लगाते हुए कहा कि यह कार्यक्रम पूरी तरह से राजनीतिक हो गया है। काशी की जनता के जख्म अभी हरे हैं। बीते दिनों पठानकोट हमले में कई जवान शहीद हो गए। यह उन शहीदों का अपमान है जिन्होंने हमारे लिए अपने सीने पर गोलियां खाई और अपने प्राण देश के लिए न्यौछावर कर दिए। सवाल उठाया कि अनुपम खेर भी एक कलाकार हैं लेकिन पाकिस्तान ने बीते दिनों उन्हें वीजा देने से इंकार कर दिया था। 
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned