PM LIVE  बागी बलिया में MODI  बोले मैं  मजदूर नंबर 1

PM LIVE  बागी बलिया में MODI  बोले मैं  मजदूर नंबर 1
pm modi in balia

जानिए उज्ज्वला योजना के शुभारंभ पर देश को क्या सन्देश दिया मोदी ने

वाराणसी.

- देश के लिए जीने-मरने वाले लोग बलिया की धरती ने दिए हैं।  यहां से भारत के पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर का भी नाम जुड़ा हुआ है। बलिया की धरती का सीधा नाता बाबू जयप्रकाश नारायण के साथ जुड़ता है। एक से बढ़कर एक दिग्गज जिस धरती से दिए मैं उसे नमन करता हूं।

- आप मुझे जितना प्यार देते हैं, मेेरे ऊपर उसका कर्ज चढ़ता जाता है। मैं इस प्यार वाले कर्ज को ब्याज समेत चुकाने का संकल्प लेकर काम कर रहा हूं।
मैं इस कर्ज को देश का विकास करके चुकाऊंगा।

- आज पूरा विश्व मजदूर दिवस मना रहा है।  आज देश का यह मजदूर नंबर एक देश के सभी श्रमिकों को, उनकी मेहनत को, राष्ट्र को आगे बढ़ाने में उनके अविरत योगदान के लिए उनका अभिनंदन करता है। 21वीं सदी का मंत्र होना चाहिए, विश्व के मजदूरों आओ हम दुनिया को एक करें और दुनिया को जोड़ दें। - दुनिया को जोड़ने के लिए अगर कोई केमिकल है तो वो है मजदूर का पसीना।

- पीएम बनने के बाद मैंने अपने पहले भाषण में कहा था कि मेरी सरकार गरीबों को समर्पित है।  मेरी सरकार जो भी करेगी वो गरीबों के लिए भलाई के लिए करेगी।  हमारे देश में 30 लाख से ज्यादा श्रमिक ऐसे थे, जिन्हें महीने के 15 रुपए, 100 रुपए, 50 रुपए पेंशन मिलती थी। बीजेपी की सरकार बनने के बाद इन श्रमिकों की पेंशन बढ़ाकर एक हजार रुपए कर दी गई। 

 श्रम सुविधा पोर्टल चालू किया, जिसके तहत 8 अहम श्रम कानून को इकट्ठा करके उनका सरलीकरण किया।  पहली बार देश के श्रमिकों को एक लेबर आईडेंटिटी नंबर दिया। ताकि  हमारे श्रमिक की पहचान बन जाए।  हमारे देश के श्रमिकों को देश में अपॉरच्यूनिटी मिले, इसके लिए ncsp (नेशनल कैरियर सर्विस पोर्टल) शुरू किया।  बोनस की कम से कम इनकम 10 हजार से बढ़ाकर 21 हजार रुपए कर दी गई। बोनस 3,500 रुपए से बढ़ाकर 7,000 रुपए कर दिया गया।  देश में 4 करोड़ से ज्यादा मजदूर कंस्ट्रक्शन के काम में हैं। श्रमिक कानून में बदलाव करके जिंदगी को बेहतर बनाने का प्रयास किया है।
- पिछली सरकार गरीबों को गरीबी के खिलाफ लड़ाई लड़ने के लिए तैयार नहीं कर पाई। गाजीपुर के सांसद ने नेहरू के जमाने में पूरे हिंदुस्तान को हिला दिया था। जब उन्होंने संसद में कहा कि पूर्वी उत्तर-प्रदेश के भाई-बहन ऐसी गरीबी में जी रहे हैं कि उनके पास खाने के लिए अन्न नहीं होता है। पशु के गोबर को धोते हैं और उसने से जो दाने निकलकते हैं उससे अपना गुजारा करते हैं।  यह बात सुनकर पूरा हिंदुस्तान हिल गया था। इसके बाद पटेल कमीशन बैठा था, जिसमें हालात सुधारने के लिए कई सुझाव 50 साल पहले दिए गए थे ।


 मैं उन 1 करोड़ 10 लाख से ज्यादा परिवारों को सिर झुकाकर नमन करना चाहता हूं, जिन्होंने रसोई गैस की सब्सिडी छोड़ दी। एक साल के अंदर मेरे देश के लोगों ने सरकार से भी एक कदम आगे बढ़कर इस अच्छे काम में साथ दिया।  यह परिवार जहां भी बैठे होंगे, तालियों की गूंज उन तक जरूर पहुंच रही होगी और वो गर्व महसूस कर रहे होंगे। 1955 से रसोई गैस देने का काम चल रहा है। इतने सालों में सिर्फ 13 करोड़ परिवारों को रसोई गैस मिली।
- मेरी सरकार ने एक साल में 3 करोड़ से ज्यादा परिवारों को गैस सिलेंडर दे दिया। 

 मैं बलिया से यूपी में चुनावी बिगुल बजाने नहीं आया हूं। बिगुल तो मतदाता बजाते हैं।  कुछ लोगों का राजनीति से कोई लेना-देना नहीं होता, लेकिन फिर राजनीति करने से बाज नहीं आते। मैंने इस योजना के लिए बलिया को इसलिए चुना, क्योंकि उत्तर प्रदेश के हर जिले में रसोई गैस का जो औसत है, वो बलिया में सबसे कम है। यह ऐसा इलाका है, जहां गरीबी की रेखा के नीचे जीने वाले 100 में से 8 परिवारों के घर में रसोई गैस जाती है। हरियाणा में ‘बेटी बचाओ’ अभियान इसलिए शुरू किया, क्योंकि वहां लड़कों का अनुपात ज्यादा था। अगर पूर्वी हिंदुस्तान, पश्चिमी हिंदुस्तान की बराबरी कर ले तो देश में गरीबी खत्म हो जाएगी। 2019 में महात्मा गांधी की 150वीं जयंती होगी, तो 5 करोड़ परिवारों तक रसोई गैस पहुंच चुकी होगी।
-लकड़ी के चूल्हे पर खाना बनाते वक्त एक दिन में महिलाओं के अंदर 400 सिगरेट का धुंआ चला जाता है। बच्चों से धुएं का शिकार हो जाते हैं। धुएं के बीच ही खाना खाना पड़ता है। मेरा जन्म एक बहुत ही गरीब घर में हुआ था। उसमें कोई खिड़की नहीं थी। सिर्फ आने-जाने के लिए एक दरवाजा था। मैंने भी वो दिन देखें हैं, जब मेरी मां लकड़ी के चूल्हे पर मुश्किल से खाना बनाती थी। कभी-कभी धुंआ इतना होता था कि खाना परोसते वक्त मां का चेहरा भी नहीं दिखता था। मैं देश की हर गरीब मां को इस धुएं से आजाद कराना चाहता हूं।  रसोई गैस से अब खर्चा भी कम होगा और दवाई पर भी पैसा नहीं खर्च
-

 गैस की सब्सिडी भी महिलाओं के नाम पर दी जाएगी।  उनका जो प्रधानमंत्री जनधन अकाउंट है, उसी में सब्सिडी जमा होगी।
- ताकि पैसे किसी और हाथ के न लग जाएं।  पिछली किसी भी सरकार ने उत्तर प्रदेश के विकास के जितना काम नहीं किया होगा, उतनी धनराशि केंद्र सरकार यहां लगा रही है।  हम चाहते हैं कि देश को आगे बढ़ाने के लिए हमारे जो गरीब राज्य हैं, वो तेजी से तरक्की करें। गंगा सफाई का अभियान जन भागीदारी से सफल होगा।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned