बाहुबली बसपा प्रत्याशी के परिजनों पर भी मुकदमे

बाहुबली बसपा प्रत्याशी के परिजनों पर भी मुकदमे
ex mlc vineet singh

बचाव में उतरे भाई ने लगाया बृजेश-सुशील पर फंसाने का आरोप

वाराणसी. मुख्यमंत्री को लेकर विवादित पोस्टर सोशल मीडिया पर जारी करने के बाद पुलिस-प्रशासन की नजर में चढ़े बाहुबली बसपा प्रत्याशी व पूर्व एमएलसी विनीत सिंह के आर्थिक सामा्रज्य को ध्वस्त करने की तैयारी चल रही है। पुलिस ने सैयदराजा विधानसभा क्षेत्र से बसपा प्रत्याशी विनीत सिंह के भाई जगदीश सिंह व त्रिभुवन नारायण सिंह के अलावा बहू-भतीजे पर चोलापुर व चौबेपुर थाना क्षेत्र के मोहावं व गरसड़ा स्थित दो ईंट-भ_ों को सीज कर दिया है। उक्त मुकदमे खनन अधिकारी अनिल सिंह की तरफ से दर्ज कराए गए हैं। गौरतलब है कि इससे पूर्व रोहनिया थाने में बसपा प्रत्याशी विनीत सिंह के खिलाफ रंगदारी, बलवा, मारपीट की धाराओं में शशिकांत राजभर की तहरीर पर पुलिस ने पहले ही मुकदमा कायम कर रखा है। सूत्रों के अनुसार पुलिस अब विनीत के उन सिपहसलारों के काम-धंधे की सुरागकशी में जुटी है जो धंधा तो खुद करते हैं लेकिन पीछे दिमाग और रसूख बाहुबली का ही चलता है। मीरजापुर, सोनभद्र में बैरियर से हो रही प्रतिदिन लाखों की कमाई पर पुलिस ब्रेक लगा चुकी है। ईंट-भट्ठों को सीज करने के बाद अब पुलिस विनीत के प्रापर्टी के धंधे का पता लगा रही है। 

बृजेश-सुशील के इशारे पर फंसा रहे अफसर
रंगदारी व अन्य मुकदमों में फंसे बाहुबली विनीत सिंह का बचाव करने के लिए उनके भाई व पूर्व ब्लाक प्रमुख त्रिभुवन नारायण सिंह सामने आए हैं। शुक्रवार को मीडिया से बातचीत में आरोप लगाया कि उनके भाई को माफिया से माननीय बने एमएलसी बृजेश सिंह व उनके विधायक भतीजे सुशील सिंह के इशारे पर फंसाया जा रहा है। त्रिभुवन सिंह का दावा है कि शशिकांत राजभर और विनीत पुराने मित्र हैं। कुछ समय पूर्व शशिकांत की बेटी की शादी में विनीत घंटों मौजूद रहे। विनीत का शशिकांत के घर अक्सर आना-जाना लगा रहता है। कारोबार के रुपयों के लेनदेन को लेकर दोनों के बीच  दोनों के बीच मामूली विवाद था लेकिन पुलिस और बृजेश सिंह के दबाव में आकर शशिकांत राजभर ने विनीत के खिलाफ मुकदमा कायम कराया है। उधर इस मामले में विधायक सुशील अपने व चाचा बृजेश पर लगे आरोपों को खारिज कर रहे हैं। उनका कहना है कि शशिकांत विनीत का  ही मित्र है। बीते चुनावों में भी वह विनीत के साथ था। ऐसे में हम लोगों पर आरोप बेबुनियाद है। गौरतलब है कि मीरजापुर के एमएलसी चुनाव में विनीत को पटखनी देने के लिए बृजेश सिंह के कुनबे ने भदोही के दबंग विधाक विजय मिश्र से हाथ मिलाया था। विनीत दोनों परिवारों के आगे टिक नहीं पाए और एमएलसी की कुर्सी विजय मिश्र की पत्नी के पास पहुंच गई। 

पोस्टरवार में साजिशन फंसाया

त्रिभुवन नारायण सिंह का कहना है कि मुख्यमंत्री के खिलाफ फेसबुक पेज पर विवादित पोस्टर जारी करने वाला विनीत का समर्थक उमाशंकर सिंह है जो चंदौली के धानापुर में रहता है। उसी ने सैयदराजा विधानसभा सीट के नाम से फेसबुक पेज बनाया है। उसने अपनी गलती स्वीकार कर ली है कि उक्त पोस्टर उसी ने अति उत्साह में आकर बनाकर जारी किया था। इसके लिए वह कानूनी सजा भुगतने को तैयार है। 
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned