BHU के छात्रों को BHRD मंत्री से मिलने से पुलिस व सुरक्षाकर्मियों ने रोका, छात्र अड़े

Ajay Chaturvedi

Publish: Aug, 04 2018 06:34:47 PM (IST)

Varanasi, Uttar Pradesh, India

वाराणसी. मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडेकर संग आई केंद्रीय मंत्रियों की फौज से मिलने गए बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के छात्रों को पुलिस व सुरक्षाकर्मियों ने खदेड़ दिया। छात्र मानव संसाधन विकास मंत्री से मिल कर विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा जबरन बिना किसी दोष के छात्रों के निष्कासन के बाबत अपनी बात रखना चाहते थे। ज्ञापन देना चाहते थे। लेकिन उनकी मंशा पूरी नहीं हो सकी। लेकिन उन्होंने अपना प्रतिरोध जरूर जताया।

 

ये भी पढ़ें- BHU गर्म, तेज बारिश को दरकिनार कर निष्कासित छात्र पूरी रात बैठे रहे अनशन पर, आमरण अनशन की धमकी

काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से मिलने एवं प्रतिरोध दर्ज कराने ज्वाइंट एक्शन कमेटी का प्रतिनिधि मंडल शनिवार को के एन उडप्पा सभागार पहुंचा। छात्रों को वहां जिला एवं विश्विद्यालय प्रशासन द्वारा सुरक्षा का हवाला देते हुए, सभागार में प्रवेश नहीं करने दिया गया। इसके बाद भी प्रतिनिधि मंडल के सदस्य अपना विरोध दर्ज कराते हुए, मानव संसाधन मंत्री से मुलाकात करने की जिद पर अड़े रहे। इसकी जानकारी सभागार में पहुंची तो मानव संसाधन विकास मंत्री के पीए छात्रों से मिलने पहुंचे। छात्रों ने मंत्री के पीए के समक्ष विश्विद्यालय के तानाशाही व दमनात्मक रवैए से अवगत कराया तथा प्रतिनिधि मंडल ने उन्हें ज्ञापन देते हुए तत्काल प्रभाव से निर्दोष छात्रों के ऊपर से निष्काषन एवं सस्पेंशन खारिज करने की मांग की।

ये भी पढ़ें- BHU छात्रों के निष्कासन पर गर्माया माहौल, छात्रों ने लगाया ये आरोप, वीसी को भेजा पत्र

छात्रों ने कहना था कि वे मानव संसाधन विकास मंत्री का ध्यान काशी हिंदू विश्वविद्यालय में विगत दिनों कुछ छात्र-छात्राओँ पर हुए अन्यायपूर्ण दमनात्मक एवं अनुशासनात्मक कार्रवाई की ओर आकृष्ट कराना चाहते हैं। हाल ही में विश्वविद्यालय प्रशासन ने 11 छात्र-छात्राओं को एक झूठे मामले में फंसाकर उनका निष्कासन व सस्पेंशन किया है। इन छात्र-छात्राओ का अगली कक्षा में प्रवेश प्रतिबंधित कर दिया गया है। विश्वविद्यालय की सुविधाओं से वंचित कर दिया गया है। ये सारी कार्रवाई उस प्रकरण में हुई है जिसकी विवेचना लंका पुलिस पहले ही कर चुकी है और सभी आरोपियों को बरी किया जा चुका है। बावजूद इसके विश्वविद्यालय प्रशासन ने अपनी कमेटी गठित कर मनमाने ढंग से इन छात्र-छात्राओं पर कार्रवाई करते हुए डिबार कर दिया है। अतः निवेदन है कि इस मामले को संज्ञान में लेते हुए छात्रों के भविष्य के साथ न्याय करने की कृपा करें।

 

ये भी पढ़ें- MHED मंत्री प्रकाश जावडेकर बोले, देश का नेतृत्व करने को आगे आए BHU

मानव संसाधन विकास मंत्री के पीए से से मिलते बीएचयू के छात्र-छात्राएं
Ad Block is Banned