BREAKING राष्ट्रपति के नाम पर वसूली, अब नहीं पूजेंगे गंगा मईया को महामहिम

BREAKING राष्ट्रपति के नाम पर वसूली, अब नहीं पूजेंगे गंगा मईया को महामहिम
president of india

राष्ट्रपति भवन को मिली थी शिकायत, पढि़ए ये पूरी खबर

वाराणसी. धर्म एवं संस्कृति की नगरी काशी की साख पर तथाकथित लोगों ने चोट पहुंचाने की कोशिश की है। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के गंगा पूजन व बाबा दरबार में दर्शन-पूजन के नाम पर हो रहे आयोजन को लेकर सनसीखेज मामला सामने आया है। राष्ट्रपति के लिए आयोजित कार्यक्रम के नाम पर वाराणसी में कुछ लोगों द्वारा वसूली की गई है। आयोजन में सहायता के नाम पर लाखों रुपये वसूले गए हैं। शिकायत को गंभीरता से लेते हुए राष्ट्रपति भवन ने 13 मई को दशाश्वमेध घाट स्थित गंगा पूजन व बाबा दरबार में हवन-दर्शन के कार्यक्रम को भी रद कर दिया गया है। 

दो दिन पहले पहुंची शिकायत 

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी 12 मई को वाराणसी आ रहे हैं। बीएचयू में विविध कार्यक्रम में शरीक होने के बाद 13 मई को उन्हें दशाश्वमेध घाट पर आयोजित गंगा पूजन समारोह व काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन-पूजन के साथ ही हवन करना था। जानकारी के अनुसार तय कार्यक्रम के बीच दो दिन पूर्व राष्ट्रपति भवन में एक शिकायती पत्र पहुंचा। वाराणसी के रविंद्रपुरी में रहने वाले दिलीप सिंह के नाम से पहुंची चि_ी में कहा गया कि गंगा पूजन व मंदिर में हवन-पूजन के कार्यक्रम के नाम पर आयोजकों की ओर से लाखों रुपये चंदा वसूला गया है। निर्विवाद छवि के व्यक्तित्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के कार्यक्रम के नाम पर अवैध वसूली की शिकायत पर राष्ट्रपति भवन सकते में आ गया। बुधवार को सूबे के मुख्य सचिव को शिकायत संबंधी पत्र से अवगत कराया। सचिवालय से टेलीफोन की घंटिया वाराणसी घनघनाने लगी। जिलाधिकारी के आदेश पर एडीएम सिटी ने प्रकरण की जांच की। जिला प्रशासन ने शिकायत को झूठा बताते हुए इसकी रिपोर्ट लखनऊ भेज दी। मुख्य सचिव ने राष्ट्रपति भवन को जांच संबंधित आख्या भेज दी।

रिपोर्ट पर यकीन नहीं 

राष्ट्रपति भवन ने जिला प्रशासन की रिपोर्ट से अधिक उस शिकायती पत्र को महत्व दिया। सूत्रों के अनुसार राष्ट्रपति भवन के अधिकारियों ने महामहिम को पूरे प्रकरण से अवगत कराया। चूंकि इन दोनों कार्यक्रमों को लेकर शिकायत मिल चुकी थी और बाद में कोई विवाद न पैदा हो, इसलिए महामहिम की स्वीकृति के बाद राष्ट्रपति भवन की ओर से वाराणसी में 13 मई के सभी आयोजन को रद कर दिया गया। अब राष्ट्रपति 12 मई की रात को ही दिल्ली लौट जाएंगे। 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned