scriptPrisoners of district jail will learn the art of making wooden toys | एकै साधे सब सधैः जिला जेल के बंदी सीखेंगे लकड़ी का खिलौना बनाने की कला, निखरेगी बनारस की पहचान, बंदी होंगे हुनरमंद | Patrika News

एकै साधे सब सधैः जिला जेल के बंदी सीखेंगे लकड़ी का खिलौना बनाने की कला, निखरेगी बनारस की पहचान, बंदी होंगे हुनरमंद

बनारस की बनारसी साड़ी ही दुनिया भर में मशहूर नहीं है, बल्कि यहां के लकड़ी के खिलौने भी विश्वविख्यात हैं। हाला ही में जब श्री काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण हुआ तो बनारस के कारीगरों ने धाम की आकृति को लकड़ी पर हूबहू उकेरा जिसका डिमांड आज सबसे ज्यादा है। ऐेस में बनारस के लकड़ी के खिलौना उद्योग को और गति देने के साथ ही कैदियों व बंदियों को हुनरमंद बनाने के उद्देश्य से जिला जेल के बंदियों को लकड़ी का खिलौना बनाना सिखाने की पहल की गई है। तो जानते हैं क्या है योजना...

वाराणसी

Published: June 14, 2022 01:57:49 pm

वाराणसी. बनारसी साड़ी जितनी विख्यात है दुनिया भर में उसी तरह से बनारस के लकड़ी के खिलौनों की चाहत रखने वालो की भी विश्व में कमी नही है। इन दिनों तो धार्मिक सजावटी सामानो में सबसे अधिक मांग बनारस के पारंपरिक लकड़ी के खिलौनों की है। बता दें कि पिछले साल 13 दिसंबर को श्री काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण होने के बाद से धाम की आकृति को लकड़ी पर उतारा यहां के कारीगरों ने। उस काष्ठ कला की इन दिनों जबरस्त मांग है। ऐसे में अब ओडीओपी योजना के तहत जिला जेल में लकड़ी के खिलौने बनाने की योजना बनाई गई है। इसके लिए जिला जेल के ऐसे बंदियों की सूची तैयार की जा रही है जो इस कला से जुड़ना चाहते हैं।
लकड़ी पर उकेरी गई श्री गणेश की प्रतिमा
लकड़ी पर उकेरी गई श्री गणेश की प्रतिमा
लकड़ी पर उकेरी गई श्री काशी विश्वनाथ धाम की आकृति की सर्वाधिक मांगइन देशों में है ज्यादा मांग

बता दें कि बनारस के लकड़ी के खिलौनों का अच्छा खासा बड़ा बाजार है। यहां के कश्मीरीगंज, खोजवां, भेलूपुर, शिवपुरवा, विश्वेश्वरगंज, लक्सा, किरहिया आदि क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर लकड़ी के खिलौने बनाए जाते हैं। बताया जाता है कि बनारस के लकड़ी के खिलौना का कारोबार करीब 25 लाख रुपये प्रतिदिन और 50 करोड़ रुपये वार्षिक का है। ये खिलौने रूस, ब्रिटेन, कनाडा आदि देशों में भेजे जाते हैं।
बनारसी लकड़ी के खिलौनों की खासियत

बता दें कि बनारसी लकड़ी के खिलौनों के कारीगर धार्मिक आकृति वाले खिलौने ज्यादा बनाते हैं। ऐसे खिलौनों को लोग अपने ड्राइंग रूम में सजाने के लिए ले जाते हैं। इसमें श्री गणेश जी, हनुमान जी, लक्ष्मी-गणेश आदि। चूहा गाड़ी और बैलगाड़ी जैसे खिलौने तो यहीं बनाए जाते हैं।
विश्वनाथ धाम की आकृति वाले लकड़ी के खिलौने की ज्यादा मांग

लकड़ी का खिलौने बनाने वाले कारीगर बिहारी लाल अग्रवाल व अमर अग्रवाल बताते हैं कि श्री काशी विश्वनाथ धाम के लोकार्पण और इसके प्रचार-प्रसार का फायदा भी बनारस के लकड़ी के खिलौना उद्योग को मिल रहा है। इसकी मांग बढ़ती जा रही है। बनारस आने वाले पर्यटकों को भी ये काफी पसंद आ रहा है। वो इसे खरीद कर अपने साथ ले जा रहे हैं।
कुछ नया करने की चाह रखने वाले बंदियो को मिलेगा प्रशिक्षण

दरअसल ये पहल जिला उद्योग विभाग ने की है। योजना के तहत जिला जेल में ही लकड़ी के खिलौने तैयार करने को कार्यशाला बनेगी जहां चुनिंदा बंदियों को लकड़ी का खिलौना बनाने का प्रशिक्षण दिया जाएगा। खिलौना बनाने की कार्यशाला के लिए जेल में अलग से स्थान आरक्षित किया जाएगा। ये कार्य जिला जेल प्रशासन करेगा। इस कार्यशाला (वर्कशॉप) में खिलौना बनाने के उपकरण होंगे। वैसे कार्यशाला करीब डेढ महीने की होगी। जेल प्रशासन के मुताबिक लकड़ी का खिलौना बनाने के लिए युवा बंदियों का चयन किया जाएगा। ऐसे करीब 25 बंदियों का चयन होगा। ये ऐसे बंदी होंगे जो कुछ नया सकारात्मक करना चाहते हैं।
जिला उद्योग विभाग उपलब्ध कराएगा बाजार

जिला जेल में बंदियों द्वारा बनाए गए लकड़ी के खिलौनों के लिए जिला उद्योग विभाग बाजार मुहैया कराएगा। साथ ही स्व गिरिजा देवी स्मृति सांस्कृति संकुल में लगने वाली प्रदर्शनी में इन खिलौनो को रखा जाएगा।
डेढ महीने की होगी कार्यशाला

कार्यशाला डेढ महीने की होगी। प्रशिक्षण उन बंदियों को दिया जाएगा जो कुछ नया, कुछ सकारात्मक व कलात्मक सोच रखते हों। सीखने की इच्छा हो। आगे चल कर इसे प्रोफेशन के रूप में लेना चाहते हों।- अरुण कुमार सक्सेना, जिला जेल अधीक्षक

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Bihar News: तेज प्रताप भी बन सकते हैं मंत्री, बिहार में 16 अगस्त को मंत्रिमंडल विस्तारBilkis Bano Gang Rape: आजीवन कारावास की सजा काट रहे सभी 11 दोषी रिहा, राज्य सरकार की माफी योजना के तहत जेल से आए बाहरIndependence Day 2022: भारत की आजादी के 75 साल पूरे होने पर इन देशों ने दी बधाईयां और कही ये बातKarnataka News: शिवमोग्गा में सावरकर के पोस्टर को लेकर बढ़ा विवाद, धारा 144 लागूसिंगर राहुल जैन पर कॉस्ट्यूम स्टाइलिस्ट के साथ रेप का आरोप, मुंबई पुलिस ने दर्ज की एफआईआरशख्स के मोबाइल पर गर्लफ्रेंड ने भेजा संदिग्ध मैसेज, 6 घंटे लेट हुई इंडिगो की फ्लाइट, जाने क्या है पूरा मामलासिर्फ 'हर घर' ही नहीं, 'स्पेस' में भी लहराया 'तिरंगा', एस्ट्रोनॉट राजा चारी ने अंतरिक्ष स्टेशन पर लहराते झंडे की शेयर की तस्वीरबिहार : नीतीश कुमार का बड़ा ऐलान, 20 लाख युवाओं को देंगे नौकरी और रोजगार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.