Purvanchal Expressway: ऐसा हाेगा समय से पहले पूरा हाेने वाला पूर्वांचल एक्सप्रेसवे, पीएम मोदी 1 अप्रैल को करेंगे उद्घाटन

  • सीएम योगी आदित्यनाथ ने मार्च पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का निर्माण पूरा करने का दिया है निर्देश
  • चांदसराय लखनऊ से गाजीपुर के हैदरिया तक 341 किलोमीटर लंबा है 6 लेन Purvanchal Expressway
  • 14 जुलाई 2018 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी किया था शिलान्यास

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

वाराणसी. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि पूर्वांचल एक्सप्रेसवे (Purvanchal Expressway) का काम मार्च तक पूरा हो जाएगा। कहा जा रहा है कि एक अप्रैल को प्रधानमंत्री नरेन्द्र (Narendra Modi) मोदी इसका उद्घाटन कर देंगे। सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के मुख्यमंत्री बनने के बाद इस एक्सप्रेसवे का निर्माण कार्य शुरू हुआ था, जिसका एक तिहाई से ज्यादा काम पूरा हो चुका है। शेष बचे काम को मार्च तक पूरा कर लिया जाएगा। मुख्यमंत्री योगी ने एक्सप्रेसवे का निरीक्षण कर निर्माण कार्य में और तेजी लाने का निर्देश दिया है। पूर्वांचल एक्सपेस वे का शिलान्यास प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 14 जुलाई 2018 में आजमगढ़ से किया था।

इसे भी पढ़ें- सीएम योगी ने की घोषणा, अप्रैल में पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर शुरू होगा यातायात, पीएम करेेगे उद्घाटन

purvanchal_expressway_map.jpg
पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का मैप IMAGE CREDIT: यूपीडा

योगी सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट (Yogi Government Dream Project) में से एक पूर्वांचल एक्सप्रेसवे पूर्वी उत्तर प्रदेश के विकास में मील का पत्थर साबित होगा। गाजीपुर के हैदरिया से लखनऊ के चांदसराय तक बन रहे 6 लेन के इस एक्स्प्रेसवे Lucknow to Ghazipur Expressway की लंबाई 341 किलोमीटर होगी। इसे जरूरत पड़ने पर आठ लेन तक बढ़ाया जा सकेगा। इस प्रोजेक्ट पर मुख्यमंत्री खुद नजर रखे हुए हैं और समय-समय पर इसकी समीक्षा व निरीक्षण करते रहते हैं। अभी इस परियोजना का करीब 77 प्रतिशत निर्माण कार्य पूरा हो चुका है।

purvanchal_expressway_2018.jpg
14 जुलाई 2018 को पीएम मोदी ने आजमगढ़ में किया था शिलान्यास IMAGE CREDIT:

एक नजर में पूर्वांचल एक्सप्रेसवे

शिलान्यास- 14 जुलाई 2018 को पीएम मोदी ने किया शिलान्यास

कहां से कहां तक- NH 56 पर स्थित चांदसराय (लखनऊ) से NH-19 पर स्थित हैदरिया (गाजीपुर) तक।

लंबाई- 340.824 किलोमीटर, 6 लेन

लागत- 22,494,66 करोड़ रुपये

इन जिलों से गुजरेगा- लखनऊ, बाराबंकी, अमेठी, सुलतानपुर, अयोध्या, अम्बेडकरनगर, आजमगढ, मऊ, गाजीपुर

निर्माण- ई पी सी मोड (अभियांत्रिकी, क्रय व निर्माण) में निर्माण

पैकेज- आठ पैकेज में हो रहा काम

एयर स्ट्रिप- लड़ाकू विमानों की लैंडिंग के लिये सुलतानपुर में एक्सप्रेस वे पर साढ़े तीन किलोमीटर की एयरस्ट्रिप

अन्य- परियोजना में 18 फ्लाईओवर, सात रेलवे ओवरब्रिज और सात लंबे पुल, 118 छोटे पुल, 13 इंटरचेंज टोल प्लाजा, 271 अंडरपास व 502 पुलिया बनाई जाएगी

पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के फायदे

  • पूर्वी उत्तर प्रदेश के जिले राजधानी के साथ ही आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे और यमुना एक्सप्रेसवे से भी जुड़ जाएंगे
  • एक्सेस कंट्रोल्ड एक्सप्रेसवे होने के चलते यह ईंधन बचत, समय बचत और प्रदूषण नियंत्रण में मददगार साबित होगा और दुर्घटनाएं भी घटेंगी
  • एक्सप्रेसवे जिन जिलों और क्षेत्रों से होकर गुजरेगा उन्हें आर्थिक रूप से विकसित होने में मदद मिलेगी और उद्योग, कारोबार, पर्यटन और कृषि विकास को प्रोत्साहन मिलेगा
  • एक्सप्रेसवे से सटे इलाकों में नए शहर बसाए जा सकेंगे, औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, शैक्षिक व स्वास्थ्य संस्थान व वाणिज्यिक केंद्र स्थापित किये जा सकेंगे, जिससे रोजगार के मौके बढ़ेंगे और प्रदेश में आर्थिक व सामाजिक विकास को प्रोत्साहन मिलेगा
  • पहले से मौजूद एक्सप्रेसवे से जुड़ने से पूर्वांचल एक्सप्रेवे पूर्वी उत्तर प्रदेश के शहरों के लिये औद्योगिक प्रवेश द्वार साबित होगा।इससे पश्चिमी यूपी के शहरों से ट्रांसपोर्ट कनेक्टिविटी बढ़ेगी और परियोजना से जुड़े शहरों का सर्वागींण विकास होगा।
Narendra Modi
Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned