जेल से आजादी को देने होंगे इन सवालों के जवाब

जेल से आजादी को देने होंगे इन सवालों के जवाब
release for prison answer five question

जानिये वो कौन से हैं पांच सवाल जो सरकार ने जेल अधिकारियों से पूछे हैं

वाराणसी. सपा सरकार हमेशा से जेल में बंद अपराधियों को आजाद करने के मामले विरोधी दलों के निशाने पर रहती है। सत्ता में आने के साथ ही सपा सरकार ने आतंकी घटना में संलिप्त संदिग्धों को जेल से बाहर करने के लिए याचिका दाखिल कर चुकी है। विरोधी दलों की आलोचना व कोर्ट की फटकार के बाद सरकार ने अपने कदम पीछे खींच लिए थे।

कार्यकाल समाप्त होने से पहले एक बार फिर सपा सरकार ने जेल में बंद सिद्धदोष अपराधियों की रिहाई की कवायद शुरू कर दी है। हालांकि मामला इस बार देश विरोधी गतिविधियों से जुड़े लोगों की रिहाई का नहीं है। दरअसल यूपी की जेलों में क्षमता से अधिक बंदी हैं। अधिकतर बंदी वृद्ध और अशक्त हो चुके है। सरकार जिन बंदियों को आजाद करना चाहती उनमें अधिकतर व्यक्तिगत अपराध के मामले में लंबे समय से सलाखों के पीछे जिंदगी गुजार रहे हैं। 

उत्तर प्रदेश सरकार ने लक्ष्मण नास्कर बनाम यूनियन ऑफ़ इंडिया के तहत उच्च न्यायलय की ओर से पूछे गए सवालों का सहारा लिया है। प्रमुख सचिव देवाशीष पांडेय ने प्रदेश के सभी जेल अधिकारियों से वो पांच सवाल किए हैं जिनके आधार पर सिध्ददोष अपराधियों की समय पूर्व रिहाई का रास्ता खुले।

प्रमुख सचिव ने वाराणसी समेत प्रदेश के सभी जिलाधिकारी, पुलिस कप्तान व जेल अधिकारियों को भेजे पत्र में स्पष्ट किया है कि बिना विशेष कारण बंदी की समय पूर्व रिहाई का विरोध न करें। ख़ुफ़िया व पुलिस अधिकारी ऐसे बंदियों की गहनता से जांच कराकर महानिरीक्षक कारागार को आख्या प्रेषित करें।

सवाल नम्बर 1 - क्या सम्बंधित अपराध समाज को व्यापक रूप से प्रभावित किये बिना क्या व्यक्ति विशेष तक सीमित अपराध की श्रेणी में आता है

सवाल नंबर 2- क्या बंदी द्वारा भविष्य में अपराध करने की कोई सम्भावना है।

सवाल नंबर 3 -  क्या सिद्धदोष बंदी अपराध करने में अशक्त हो गया है।

सवाल नंबर 4 - क्या बंदी को जेल में और आगे निरुद्ध करने का कोई सार्थक प्रयोजन है।

सवाल नंबर 5 - बंदी के परिवार की सामाजिक, आर्थिक दशा बंदी की समयपूर्व रिहाई के लिए उपयुक्त है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned