इस दीवाली जलाएं दीपक, न फोड़ें पटाखे, ग्रामीण महिलाओं ने शहरियों को किया जागरूक

होप परिवार से जुड़ी ग्रीन ग्रुप की इन ग्रामीण महिलाओं ने शहरी मोहल्लों में बांटे दीये, स्कूली छात्राओं को दिलाया संकल्प।

By: Ajay Chaturvedi

Published: 12 Oct 2017, 04:46 PM IST

Varanasi, Uttar Pradesh, India

वाराणसी. युवाओं की संस्था 'होप' ने अब गांवों के साथ शहरी क्षेत्र में भी अपना प्रसार करना शुरू कर दिया है। गांव की महिलाओं, बुजुर्गों और बच्चों को शिक्षा से लेकर रूढिवादिता और यहां तक कि नशे की लत छुड़ाने तक का अभियान चलाने, लोगों को मतदान के लिए जागरूक करने के बाद अब इन युवाओं और उनकी टीम ने प्रदूषण को मुद्दा बनाया है। वायु प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण से बचाव के लिए शहरी लोगों को जागरूक करने का बीड़ा उठाया है। इसके लिए वह शहर की गलियों में घूम रहे हैं, स्कूली छात्राओं को शपथ दिला रहे हैं। इसी कड़ी में उन युवाओं और ग्रीन ग्रुप की महिलाओं ने गुरुवार को सोनारपुरा क्षेत्र में अपना अभियान चलाया। बता दें कि यह क्षेत्र पिछली दीवाली को सर्वाधिक प्रदूषित क्षेत्र के रूप में चुना गया था।

पर्यावरण संरक्षण जागरूकता अभियान

होप वेलफेयर ट्रस्ट के तत्वाधान में रामसीपुर की ग्रीन ग्रुप की महिलाओं ने गुरुवार को दुर्गा चरण इंटर कॉलेज सोनारपुरा इलाके में जागरूकता अभियान चलाया। इसके तहत उन्होंने लोगों को इको फ्रेंडली दिवाली मनाने के लिए मिट्टी के दीये वितरित किए। साथ ही दुर्गाचरण गर्ल्स इंटर कॉलेज की छात्रों को शपथ दिलाई। बता दें कि पिछले साल दीपावली के मौके पर वायु प्रदूषण के लिए सोनारपूरा क्षेत्र शीर्ष पर रहा था। ऐसे में ग्रीन ग्रुप की महिलाएं सोनारपुरा के मोहल्लों में घर- घर जा कर लोगों को दीया वितरित किया और लोगों से अपील की कि घर घर में सिर्फ मिट्टी के दीए जलाएं। कहा कि इससे ग्रामीण क्षेत्रों में स्वरोजगार में बढ़ोतरी होगी। साथ ही पटाखे न फोड़ने की अपील की। उन्हें पटाखों से बढ़ने वाले वायु व प्रदषण से क्या दिक्कत होती है। किस तरह से दिल्ली व मुंबई में कोर्ट को पटाखों की बिक्री पर प्रतिबंध लगाना पड़ा है। उन्होंने बताया कि अपना शहर भी वायु प्रदूषण से अछूता नहीं है। लेकिन हम कुछ उपाय करें तो इस पर काफी हद तक अंकुश लगाया जा सकता है।

पर्यावरण संरक्षण जागरूकता अभियान

ग्रीन ग्रुप की इन ग्रामीण महिलाओं का मानना है कि पटाखों की तेज आवाज से बूढ़े, बीमार तथा बेजुबान जानवरों को परेशानी होती है। युवाओं की टीम होप के इस अभियान में सीओ स्नेहा तिवारी भी शामिल हुईं। उन्होंने कहा कि होप संस्था पिछले दो सालों से ग्रामीण उत्थान के लिए अनवरत लगी है। ग्रीन ग्रुप की इन महिलाओं का पुलिस को भी अपेक्षा से अधिक सहयोग मिला है। बीते विधानसभा चुनाव में इन महिलाओं ने पुलिस के साथ कंधे से कंधा मिलाकर कम मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए विभिन्न क्षेत्रों में जाकर अपने देशी अंदाज में वहां के लोगों को जागरुक किया। इसका असर ये हुआ कि जिन क्षेत्रों में मतदान के लिए लोग निकलते नहीं थे वहां मतदान में 8 से 10 फीसदी का इजाफा हुआ। दुर्गाचरण कॉलेज के इस कार्यक्रम की मुख्य अतिथि डॉक्टर पद्मजा शर्मा और स्नेहा तिवारी थी। होप संस्था की तरफ से नेतृत्व कर्ता रवि मिश्र ने कार्यक्रम की अगुवाई की।

पर्यावरण संरक्षण जागरूकता अभियानपर्यावरण संरक्षण जागरूकता अभियानपर्यावरण संरक्षण जागरूकता अभियान
Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned