BIG BREAKING-सपा को तगड़ा झटका, पूर्व प्रधानमंत्री की पार्टी ने किया चुनाव लडऩे का ऐलान

सपा से जुड़े दर्जनों नेता ने की पार्टी की सदस्यता ग्रहण, जानिए कब जारी होगी प्रत्याशियों की सूची

वाराणसी. यूपी विधानसभा 2017 से पहले फिर चुनावी समीकरण बदल गये हैं। पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय चन्द्रशेखर की पार्टी सजपा ने बुधवार को पूर्वी यूपी में अकेले चुनाव लडऩे का ऐलान कर दिया है। सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के कुनबे की कलह अभी पूरी तरह थमी नहीं है कि सजपा चन्द्रशेखर गुट के चुनाव लडऩे से सपा को झटका लगना तय हैं। मीडिया से बात करते हुए सजपा के राष्ट्रीय महासचिव श्याम जी त्रिपाठी ने कहा कि हम किसी दल से गठबंधन नहीं करेंगे और अकेले ही पूर्वी यूपी के सीटों पर चुनाव लड़ेंगे।
उन्होंने कहा कि एक सप्ताह के अंदर प्रत्याशियों की सूची जारी की जायेगी। पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय चन्द्रशेखर सिंह को आज भी जनता याद करती है। देश व प्रदेश में जब से बीजेपी, कांग्रेस, सपा और बसपा ने शासन किया है तब से किसान, मजदूर, छात्र, गरीब सभी परेशान हैं। जनता को रोजगार तक नहीं मिल रहा है। किसानों की स्थिति सबसे अधिक खराब है, ऐसे में लोगों की निगाहे एक बार फिर सजपा पर लग गयी है और हम अपने प्रत्याशियों को जीता कर पूर्व पीएम का सपना पूरा करेंगे। उन्होंने कहा कि हम लोगों ने ही समाजवादी विचारधारा को जिंदा रखा है और जो भी लोग समाजवादी विचारधारा से जुड़े हुए हैं वह सभी हमारा साथ दे रहे है। उन्होंने कहा कि यूपी विधानसभा 2017 चुनाव के संयोजन की जिम्मेदारी छात्र युवा अधिकार मंच के विवेकानंद सिंह बाबूल व शम्मी कुमार सिंह को सौंपी गयी है। इस दौरान इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्रनेता रजनीश सिंह, मलेन्द्र प्रताप, रजनीश सिंह, विकास पाण्डेय, सुखपाल यादव, अभिषेक आदि ने सजपा की सदस्यता ग्रहण की।



समाजवादी नौजवानों के नेतृत्व में लड़ा जायेगा चुनाव
समाजवादी जनता पार्टी (चन्द्रशेखर) पार्टी के युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष सादाता अनवर ने कहा कि हम समाजवादी विचारधारा वाले नौजवानों को पार्टी का प्रत्याशी बनायेंगे। अधिक से अधिक युवा हमारी पार्टी से जुड़ रहे हैं और उन्हीं के नेतृत्व में यूपी चुनाव लड़ा जायेगा।


सजपा से जुड़ा छात्र युवा अधिकार मंच
पूर्वांचल के छात्रों का छात्र युवा अधिकार मंच अब सजपा से जुड़ गया है और मीडिया के सामने इस बात की घोषणा भी की गयी। सजपा ने पूर्वी यूपी में ही चुनाव लडऩे का ऐलान किया है। पार्टी का दावा है कि वाराणसी, इलाहाबाद व आजमगढ़ मंडल में अपने प्रत्याशी उतारेगी।


जानिए कैसे लगेगा सपा को झटका
पूर्वी यूपी में वर्ष 2012 में हुए चुनाव में सबसे अधिक सीट सपा ने जीती है। कभी मुलायम सिंह यादव व पूर्व पीएम स्वर्गीय चन्द्रशेखर सिंह की एक ही पार्टी जनता दल में थे बाद में मुलायम सिंह यादव ने अपनी पार्टी सपा बना ली थी। सपा की तरह सजपा में भी समाजवादी विचारधारा के लोग जुड़े रहते हैं। ऐसे में सजपा जितने सीट पर दमदारी से चुनाव लड़ेगी, उतना ही सपा को नुकसान हो सकता है।

Show More
Devesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned