Sawan 2018 के अंतिम सोमवार पर बना दुर्लभ संयोग, आज करें शिव का अभिषेक, पूरी होगी सारी मनोकामना

Sawan 2018  के अंतिम सोमवार पर बना दुर्लभ संयोग, आज करें शिव का अभिषेक, पूरी होगी सारी मनोकामना
भगवान शिव

Sarweshwari Mishra | Publish: Aug, 20 2018 09:59:34 AM (IST) | Updated: Aug, 20 2018 01:47:24 PM (IST) Varanasi, Uttar Pradesh, India

Sawan 2018 : सावन के सभी सोमवार पर भगवान शिव का अभिषेक करना फलदायी होता हैं, लेकिन आज सावन इस अंतिम और पांचवे सोमवार पर भगवान शिव का अभिषेक करना दुर्लभ माना जा रहा है।

वाराणसी. सावन में पड़ने वाला हर सोमवार बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। Sawan का महीना भगवान शिव को बहुत पसंद है। इस बार सावन का अंतिम सोमवार 20 अगस्त को है। किसी भी तरह की मनोकामना को पूर्ण करने के लिए सावन के अंतिम सोमवार को शिवजी की पूजा अवश्य करें। मान्यता है कि इसी महीने में माता पार्वती ने भगवान शिव की तपस्या करके उन्हें प्राप्त किया था। वैसे तो सावन के सभी सोमवार पर भगवान शिव का अभिषेक करना फलदायी होता हैं, लेकिन आज सावन इस अंतिम और पांचवे सोमवार पर भगवान शिव का अभिषेक करना दुर्लभ माना जा रहा है। ज्योतिष के अनुसार आज की सोमवार ज्येष्ठा नक्षत्र और वैधृतियोग में आरम्भ हुआ है और इस नक्षत्र और योग के कारण महादेव का अभिषेक करना अत्यंत दुर्लभ माना जाता है।

 


वैधृति योग को को बहुत अच्छा नहीं माना जाता है लेकिन इस योग में महादेव की पूजा और जलभिषेक किया जाये तो बहुत लाभकारी हो जाता है। जिन लोगों के जीवन में घरेलू तनाव हो , पिता-पुत्र में अनबन की स्थिति हो स्वास्थ्य अच्छा ना रहता हो , जिनको चरम रोग हो , मानसिक परेशानी हो और जो हमेशा कोर्ट-कचहरी के समस्याओं से घिरे रहते है या हर कार्य में समस्या हो उनको इस स्थिति से उबरने के लिए भगवान शिव का अभिषेक अवश्य आज के दिन करना चाहिए।

 


ज्येष्ठा नक्षत्र में सोमवार होने की वजह से आज धन और संतान की इच्छा रखने वाले लोगों को और जिन की संतान पढ़ाई में ठीक ना हो या संतान की सफलता के लिए भगवान शिव की अभिषेक करना चाहिए। अभिषेक के लिये जल दुग्ध अक्षत काला तिल और जौ डाल कर महादेव का अभिषेक करे और ॐ गौरिशंकराय नमः से अभिषेक करे और इस मंत्र का जाप करे !

 

Sawan Somvar की पूजा विधि
सावन के सोमवार पर सबसे पहले सुबह उठकर स्नान करें और फिर नंगे पैर शिव मंदिर जाए। जल पीतल या तांबे के लोटे में घर से ही भरकर जाएं। मंदिर जाकर जल को शिवलिंग पर चढ़ा दें और भगवान शिव के सामने हाथ जोड़ अपनी मनोकामना के लिए प्रार्थना करें। शिव के मंत्र का जाप करने से सभी मनोकामनाए पूरी होती हैं। तो मंदिर में खड़े होकर शिव के मंत्र का 108 बार जाप करें। पूरे दिन फलाहार पर रहें। सायंकाल भगवान के मंत्र का जाप करें तथा उनकी आरती करें। फिर शाम को चाहें तो अन्न ग्रहण कर लें। ऐसा करने से भगवान शिव अपने भक्तों पर प्रसन्न होकर उनकी हर इच्छा पूरी करते हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned