चोलापुर में दीवार गिरने से दो मासूमों की मौत

चोलापुर में दीवार गिरने से दो मासूमों की मौत
shabbey wall

दीवाली की खुशियों पर मातम, गांव में कोहराम

वाराणसी. दीवापली पर ग्रामीण पूरे गांव को दीये की रोशनी से जगमगाने की तैयारी में थे लेकिन शनि की छाया की इस गांव में ऐसी पड़ी कि पूरा गांव मातम में डूब गया। चोलापुर थाना क्षेत्र के अजगरा गांव में शनिवार सुबह जर्जर दीवार गिरने से वहां खेल रहे दो सगे भाई-बहन दब गए। जब तक ग्रामीण जर्जर दीवार का मलबा हटाते, बच्चों की सांस थम चुकी थी। 

जानकारी के अनुसार अजगरा गांव निवासी प्रदीप चौबे के तीन बेटे-बेटियों में से दो स्वाति 08 वर्ष व सार्थक 03 वर्ष गांव के अन्य बच्चों के साथ घर के बाहर खेल रहे थे। गांव के ही सुबेदार पांडेय के मकान का एक हिस्सा खंडहर हो चुका था। उस हिस्से में कोई रहता नहीं था। बच्चे वहीं खेल रहे थे। खंडहर के समीप खेल रहे बच्चों को क्या मालूम कि जर्जर दीवार उनके लिए मौत का पैगाम बन जाएगी। सुबह साढ़े सात बजे अचानक दीवार भरभराकर गिर पड़ी। स्वाति व सार्थक उसमें दब गए। उधर दीवार गिरते ही गांव में कोहराम मच गया। बच्चों की सूचना पर पहुंचे ग्रामीणों ने परिजनों के साथ मिलकर दीवार का मलबा हटाया और स्वाति व सार्थक को बाहर निकाला लेकिन तब तक देर हो चुकी थी। ग्रामीणों बच्चों के जिंदा होने की आस में उन्हें लेकर समीप के अस्पताल भी पहुंचे लेकिन डॉक्टरों का जवाब सुनकर महिलाएं रोने लगी। 

दीवाली की तैयारियों के बीच गांव में दो मासूमों की मौत के कारण सभी दुखी हो गए। चूल्हे पर पक रहे भोजन को उतार दिया। हादसे में मृत बच्चों के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल था। हर कोई मानों ऊपर वाले से पूछ रहा हो कि माता-पिता से उनकी खुशियां    क्यों छीन ली, वह भी त्यौहार के अवसर पर जब सभी हंसी-खुशी त्यौहार मना रहे थे। 
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned