शिवपाल यादव ने इस सीट से खड़ा किया प्रत्याशी तो टूट जायेगा अखिलेश यादव का सपना

शिवपाल यादव ने इस सीट से खड़ा किया प्रत्याशी तो टूट जायेगा अखिलेश यादव का सपना

Devesh Singh | Publish: Sep, 04 2018 08:01:35 PM (IST) Varanasi, Uttar Pradesh, India

लोकसभा चुनाव 2019 में महागठबंधन के चक्रव्यूह को तोडऩे में होगी आसानी, इन सीटों पर बीजेपी की नजर

वाराणसी. शिवपाल यादव ने समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाने काा ऐलान करके सभी दलों को हैरत में डाल दिया है। नेताओं ने यह नहीं सोचा था कि मुलायम सिंह यादव परिवार का विवाद इतना अधिक बढ़ जायेगा कि सपा के दो फाड़ होने की नौबत आ जायेगी। शिवपाल यादव के बगावती तेवर को देखते हुए लग रह है कि अब अखिलेश से उनकी सुलह होना आसान नहीं है। नये मोर्चा ने यूपी की अस्सी सीटो पर चुनाव लडऩे का ऐलान किया है इस सीट पर भी मोर्चा का प्रत्याशी उतरा तो सबसे अधिक फायदा पीएम नरेन्द्र मोदी को होगा। जबकि पीएम मोदी को हराने की तैयारी कर रहे अखिलेश यादव का सपना टूट जायेगा।

यह भी पढ़े:-अखिलेश यादव ने चला यह दांव तो फुस्स हो जायेगा शिवपाल यादव का सेक्युलर मोर्चा

पीएम नरेन्द्र मोदी के दम पर ही बीजेपी 2019 का चुनाव जीत सकती है। यह बात राहुल गांधी, अखिलेश यादव व मायावती का महागठबंधन भी जानता है। महाठबंधन ने पीएम मोदी को उनके संसदीय क्षेत्र में घेरने की खास योजना बनायी है। यह बात बीजेपी के नेता भी जानते हैं इसलिए लोकसभा चुनाव से पहले सीएम योगी आदित्यनाथ खुद लगातार बनारस का दौरा कर रहे हैं। अभी तक का समीकरण पीएम मोदी बनाम महागठबंधन का प्रत्याशी थी लेकिन अब कहानी बदल सकती है। शिवपाल यादव का मोर्चा बनारस में प्रत्याशी खड़ा करता है तो इसका सीधा लाभ पीएम मोदी को होगा। शिवपाल यादव के मोर्चा को जितना भी वोट मिलेगा, उतना नुकसान महागठबंधन को होगा।
यह भी पढ़े:-पांच बड़े कारण जो शिवपाल यादव को बनाते हैं बेहद खास, मुश्किल वक्त में भी सपा का बिगड़ने नहीं दिया था खेल

आजमगढ़, कन्नौज की सीट पर भी होगी रोचक लड़ाई
नरेन्द्र मोदी के लहर के बाद भी बीजेपी को यूपी की सात सीटों पर हार मिली थी। इसमे आजमगढ़, कन्नौज, मैनपुरी, अमेठी आदि सीटे हैं। शिवपाल यादव का प्रत्याशी भले ही चुनाव न जीते, लेकिन वह सपा के प्रत्याशी को शिकस्त देने में सारी ताकत लगा देगा। यदि ऐसा हुआ तो आजमगढ़ व कन्नौज की सीट भी फंस सकती है जहां पर महागठबंधन की प्रतिष्ठा दांव पर लगेगी।
यह भी पढ़े:-जो काम मायावती के एक दौरे में होता था वह सीएम योगी के 29 दौरों में नहीं हो पाया, इस रिपोर्ट ने दिखाया आईना

Ad Block is Banned