UP में ओवैसी को किसने बनाया है अपना ब्रहास्त्र, शिवसेना के इस खुलासे से चौंक जाएंगे आप

UP में ओवैसी को किसने बनाया है अपना ब्रहास्त्र, शिवसेना के इस खुलासे से चौंक जाएंगे आप
bjp support owaisi

यूपी में किला फतह करने के लिए बीजेपी ने रचा चक्रव्यूह

विकास बागी

वाराणसी. उत्तर प्रदेश की राजनीति के बड़े-बड़े सूरमा भी बीजेपी की इस गणित को जानकर भौचक रह जाएंगे। बीजेपी ने मिशन 2017 फतह करने के लिए ऐसा चक्रव्यूह रचा है कि सपा-बसपा और कांग्रेस ने भी यह नहीं सोचा होगा। 
शिवसेना का दावा है कि उत्तर प्रदेश में मतों के धु्रवीकरण के लिए एआईएमआईएम मुखिया ओवैसी को भाजपा ने अपना हथियार बनाया है। मुस्लिम कार्ड के बूते उत्तर प्रदेश में पैर जमाने की कोशिश में लगे ओवैसी जितना जहर उगलेगा उतनी ही तेजी से मतों का धु्रवीकरण होगा और भाजपा को फायदा होगा। जीत हासिल करने के लिए भाजपा की इस रणनीति से शिवसेना खासी नाराज है। यहीं वजह है कि हिंदूत्व का झंडा लेकर चल रही महाराष्ट्र में बीजेपी की सहयोगी शिवसेना उत्तर प्रदेश में दो सौ से अधिक सीटों पर चुनाव लडऩे की तैयारी में जुट गई है। कट्टर हिंदुवादी राजनीतिक दल शिवसेना का आरोप है कि भाजपा अपने फायदे के लिए सांसद आदित्यनाथ योगी और राममंदिर का सिर्फ सहारा लेती है। अयोध्या में रामलला, काशी में बाबा विश्वनाथ और मथुरा में बांकेबिहारी के नाम पर बीजेपी वोट हासिल कर सकती है तो शिवसेना पर तो घोर हिंदूवादी का ठप्पा लगा ही है। शिवसेना को भरोसा है कि देश में चल रहे माहौल को देखते हुए उत्तर प्रदेश के मतदाता उनपर भरोसा जताएगा।

एक तरफ जाति का कार्ड तो दूसरी तरफ हिंदुत्व का 

उत्तर प्रदेश में सरकार बनाने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रही भाजपा अंबेडकर व नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष के बूूते दलित व पिछड़ों का वोट बैंक अपने हक में करने की कोशिश में जुटी है। बीजेपी की इस रणनीति से यूपी में तेजी से चुनावी सेंसेक्स में उछाल मार रही बसपा में सेंध लगेगी। शिवसेना के महाराष्ट्र जोनल कोआर्डिनेटर विनय शुक्ला ने बातचीत में कहा कि गैर सांप्रदायिक होने का तमगा लगाए सपा और कांग्रेस को हमेशा से मुस्लिम कार्ड के बूते सत्ता में आई है। सपा और कांग्रेस को पटखनी देने के लिए ही बीजेपी ने ओवैसी को उत्तर प्रदेश के चुनाव मैदान में उतारा है। भारत माता की जय बोलने से इंकार करने वाले ओवैसी जितना आग उगलेंगे, मुस्लिम मतदाता उनके पक्ष में वोट करेगा। मुस्लिम मतों के धु्रवीकरण होने से सीधा फायदा बीजेपी को होगा। बता दें कि ओवैसी की पार्टी यूपी में एक सौ से अधिक सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारने की तैयारी में जुटी है। इनमें से अधिकतर सीटें सपा और कांग्रेस के पाले में रही है। 

बनारस में डा. जोशी को जिताने के लिए अपनाई थी यहीं रणनीति

कानपुर के सांसद व भाजपा के वरिष्ठ नेता डा. मुरली मनोहर जोशी को वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव में बनारस से जिताने के लिए यहीं रणनीति भाजपा ने अपनाई थी जो यूपी में चुनाव जीतने के लिए अपना रही है । राजनीतिक सूत्रों के अनुसार डा. जोशी के कहने पर ही बसपा ने बाहुबली विधायक मोख्तार अंसारी को बनारस से चुनाव मैदान में उतारा था। मोख्तार अंसारी के चुनाव मैदान में उतरने से मतदाता जातियों के बजाय धर्म में बंट गए और डा. जोशी रिकार्ड मतों से जीते थे। 
  

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned