BREAKING NEWS 46 लाख में बिकी थी बनारस सपा जिलाध्यक्ष की कुर्सी

BREAKING NEWS 46 लाख में बिकी थी बनारस सपा जिलाध्यक्ष की कुर्सी
cm akhilesh and sateesh fauji

मुख्यमंत्री दरबार पहुंचा सोशल मीडिया पर वायरल आडियोपूर्व में भी कर चुके हैं मुलायम परिवार की किरकिरी

विकास बागी

वाराणसी. समाजवादी पार्टी की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही है। दो धड़ों में बंटी सपा के लिए बनारस में शनिवार की शाम और शर्मनाक हो गई। सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक आडियो ने समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सूबे के मुखिया अखिलेश यादव के सामने ऐसा बम फोड़ा है कि सपा को मिशन 2017 पूरा करने में नाको चने चबाना पड़ेगा। उत्तर प्रदेश की सत्ता पर दोबारा काबिज होने का ख्वाब देख रहे मुलायम सिंह यादव के कुनबे तक यह आडियो पहुंच गया है। 
यह आडियो समाजवादी पार्टी के वाराणसी जिलाध्यक्ष सतीश फौजी का है जिसमें वह दावा कर रहे हैं कि उन्होंने जिलाध्यक्ष की कुर्सी पानेे के लिए 46 लाख रुपये खर्च किए हैं। हालांकि आडियो में इस बात का जिक्र नहीं है कि फौजी ने उक्त रकम किसे दी थी। सपा जिलाध्यक्ष सतीश फौजी और कार्यकर्ता रोहित यादव के बीच मोबाइल फोन पर हुई बातचीत का आडियो वायरल होते ही सपा में हड़कंप मच गया। उधर विरोधी धड़े को भी तत्काल मसाला मिल गया और फटाफट आडियो की सोशल मीडिया पर ऐसी शेयरिंग की कि सीएम अखिलेश यादव के दरबार में मामला पहुंच गया। 

रौ में ऐेसा बहे फौजी की डूबो दी लुटिया
समाजवादी पार्टी के विभिन्न आनुषांगिक संगठनों में फेरबदल होने को है। साथ ही विधानसभा चुनाव के लिए विसवार प्रभारी बनाने की भी प्रक्रिया पार्टी में चल रही है। पार्टी के एक कार्यकर्ता रोहित गुप्ता ने सेवापुरी विस क्षेत्र में अपनी भूमिका को लेकर शुक्रवार की रात जिलाध्यक्ष सतीश फौजी से मोबाइल पर संपर्क किया। बातचीत के दौरान उसने अपने सहयोगी व पार्टी के नेता दीपचंद गुप्ता को जिम्मेदारी दिलाने की बात कही। उधर दीपचंद का नाम सुनते ही फौजी भड़क गए। भड़के फौजी रौ में ऐेसी-ऐसी बातें कह गए जो नहीं कहनी चाहिए थी। पार्टी के कई कार्यकर्ताओं पर अपशब्दों की बौछार करते हुए फौजी ने कहा कि जिलाध्यक्ष बनने के लिए हमने 46 लाख रुपये खर्च किए गए हैं। हम आपको आडियो नहीं सुना सकते हैं क्योंकि सपा जिलाध्यक्ष ने कई कार्यकर्ताओं को मां-बहन की गालियां देते हुए अपशब्दों का प्रयोग किया है।

आभास तो था लेकिन कर गए विश्वास
तकनीक के खेल में पूर्व में फंस चुके सतीश फौजी को शक था कि बातचीत रिकार्ड की जा रही है लेकिन रोहित के परिवार से नजदीकी संबंध होने के कारण कुछ पल के लिए विश्वास कर गए और मामला बिगड़ गया। दरअसल कुछ दिनों पूर्व जिला पंचायत के चुनाव को लेकर सिंचाई एवं लोक निर्माण राज्य मंत्री सुरेंद्र पटेल से जिलाध्यक्ष की ठन गई थी। पूर्व प्रधान को छुड़ाने के लिए सपा धरने पर बैठी थी। मामले के पटाक्षेप के लिए एसएसपी आफिस में पहुंचे जिलाध्यक्ष सतीश फौजी ने मुलायम सिंह यादव को लेकर टिप्पणी कर दी थी जिसका वीडियो पत्रिका ने ब्रेक किया था। फौजी को लखनऊ बुलाकर हिदायत भी दी गई थी लेकिन वह अपनी जुबान पर काबू नहीं रख सके और अबकि ऐसा बम फोड़ा है जिसकी गूंज विस चुनाव में भी सुनाई देगी। 

दो दिन पहले हुई थी जिलाध्यक्ष के खिलाफ नारेबाजी
ृ12 मई को वाराणसी एयरपोर्ट पर कुछ कार्यकर्ताओं ने सपा जिलाध्यक्ष पर जातिगत टिप्पणी, मनमानी व अन्य कारगुजारियों को लेकर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के सामने ही नारेबाजी की थी। मुख्यमंत्री ने इस मामले में जिलाध्यक्ष को बुलाकर वार्ता भी की थी लेकिन जिलाध्यक्ष के इस नए खुलासे से अब तो कईयों की नींद उड़ेगी। 
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned