CAA-NRC Protest- बनारस के सपाइयों ने बजरडीहा कांड में मृत बच्चे के परिजनों को सौंपा एक लाख का चेक

-सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने लखनऊ में एक पीड़ित परिवार को दी थी मदद

By: Ajay Chaturvedi

Published: 06 Jan 2020, 04:52 PM IST

वाराणसी. CAA-NRC Protest के दौरान गत 20 दिसंबर को वाराणसी के बजरडीहा में लाठीचार्ज और भगदड़ में मृत मासूम के परिवार को आर्थिक मदद के लिए जिले के समाजवादी नेता आगे आए। पूर्व महानगर अध्यक्ष ओपी सिंह के नेतृत्व में सपाजनों की टीम सोमवार को बजरडीहा पहुंची और पीड़ित परिवार को एक लाख रुपये की मदद की।

बता दें कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव अभी रविवार को ही लखनऊ में एक पीड़ित परिवार के घर पहुंच कर न केवल उन्हें ढांढस बंधाया था बल्कि अपनी ओर से आर्थिक मदद भी की थी। ऐसे में राष्ट्रीय अध्यक्ष से प्रेरणा लेते हुए बनारस के समाजवादियों ने यह पहल की।

इस पहल के तहत ओपी सिंह के नेतृत्व में पार्टी प्रवक्ता मनोज राय धूपचंडी, आनंद मोदन उर्फ गुड्डू यादव, शालिनी यादव, डॉ पीयूष यादव, राजकुमार जायसवाल, इस्तकबाल कुरेशी ,राजू यादव, प्रदीप जायसवाल, पूजा यादव , पार्षद दल के नेता कमल पटेल, सत्य प्रकाश सोनू, वरुण सिंह, उमेश यादव, विवेक यादव आलोक गुप्ता अब्दुल्लाह शाहीद, नसीम अंसारी, विकास साहनी, संजय गुप्ता आदि
आदि ने मृत बच्चे की मां को एक लाख रुपये का चेक भेंट किया। इस मौके पर धूपचंडी ने बताया कि यह अत्यंत गरीब परिवार है। ऐसे में पार्टी की सोच के अनुरूप हम सभी ने यह पहल की है।

बता दें कि इससे पहले सपाजनों का प्रतिनिधिमंडल निवर्तमान जिलाध्यक्ष डॉ पीयूष यादव और निवर्तमान महानगर अध्यक्ष राजकुमार जायसवाल के नेतृत्व में बीएचयू के ट्रामा सेंटर पहुंच कर घायलों से मिल चुका है। इतना ही नहीं इन सपा नेताओं की रिपोर्ट जो अखिलेश यादव को भेजी गई थी उसके आधार पर पार्टी अध्यक्ष ने विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी के नेतृत्व में एक शिष्टमंडल बनारस भेजा था। वह शिष्टमंडल भी बजरडीहा प्रकरण में मृत मासूम के परिजनों से मिलने के अलावा ट्रामा सेंटर जा कर घायलों से भी मिला था। साथ ही जिला कारागार पहुंच कर उन बंदियों से भी मिला था जिन्हें शांतिपूर्ण प्रदर्शन के दौरान बेनियाबाग से गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned