थाने में "सरकार" का धरना, मुख्यमंत्री अखिलेश की छवि बिगाड़ रहे कार्यकर्ता

थाने में
sp workers in police station

मुलायम की हिदायत के बाद भी नहीं छूट रहा जमीन के धंधे का मोह

वाराणसी. आम आदमी थाने का नाम सुनते ही थर-थर कांपने लगता है लेकिन जब सरकार अपनी हो तो फिर डर काहे का। विरोधी दल लगातार प्रदेश की ध्वस्त कानून-व्यवस्था को लेकर सपा सरकार को आड़े हाथ ले रहे हैं। खाकी वर्दी पर आए दिन हमले हो रहे हैं। जमीन के एक विवाद से जुड़े मामले को लेकर दबाव बनाने के लिए सरकार को ही बनारस के एक थाने में धरना देना पड़ा। यहां सरकार से आशय सपा के कार्यकर्ताओं से है। लंका थाने में सोमवार की रात आक्रोशित सपा कार्यकर्ताओं ने धरना दिया। सपा नेताओं ने सिपाही पर सपा पार्षद शंकर का कालर पकडऩे का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा काटा। थाने के भीतर सपा कार्यकर्ताओं  के धरना देने की खबर मिलते ही पुलिस अधिकारियों के हाथ-पांव फूल गए। गश्त पर निकले इंस्पेक्टर उल्टे पांव थाने पहुंचे और मानमनौव्वल के बाद किसी तरह धरना समाप्त कराया। 
जानकारी के अनुसार सपा पार्षद शंकर, रामबाबू यादव व जगदीश यादव जक्खा इलाके की एक जमीन के विवाद में भेलूपुर थाने पहुंचे थे। पार्षद का आरोप है कि दूसरे पक्ष की तरफदारी करते हुए पुलिस ने उनके साथ बदसलूकी की। शंकर के फोन करने पर कई अन्य सपाई भी थाने धमक पड़े और पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की। भेलूपुर इंस्पेक्टर एके मिश्र का कहना है कि पार्षद की ओर से तहरीर मिलने पर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

ऐसे कैसे पूरा होगा उत्तम प्रदेश का सपना
सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव सार्वजनिक मंच से कार्यकर्ताओं को कई बार नसीहत दे चुके हैं कि जमीन के धंधे से जुड़े सपा नेता प्रदेश में खुलेआम गुंडई कर रहे हैं और पार्टी की छवि खराब हो रही है। सूबे के मुखिया अखिलेश यादव को कई बार ऐसे नेताओं पर लगाम कसने की हिदायत भी दी है। हालात उलट हैं, वाराणसी छोडि़ए पूरे प्रदेश में सपा नेताओं द्वारा जमीन कब्जे की शिकायतों से पुलिस विभाग में फाइलें भर गई हैं। 
साम-दाम-दंड-भेद की रणनीति अपनाते हुए जमीन के धंधे से जुड़कर फर्श से अर्श पर पहुंचे नेता अगर इस तरह से खुलेआम ऐसी हरकत करते रहे तो मिशन 2017 सपा का कैसे पूरा होगा, यक्ष प्रश्र है।
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned