इस सावन बाबा विश्वनाथ के दर्शन को आने वाले श्रद्धालुओं को मिलेगी हर तरह की सुविधा, न लगेगी धूप न भीगेंगे वर्षा से

500 भक्तों के बैठने का भी किया गया इंतजाम, म्यूजिक सिस्टम पर सुन सकेंगे भजन, टीवी के माध्यम से मिलेगा लाइव दर्शन का मजा।

By: Ajay Chaturvedi

Published: 24 Jul 2018, 06:24 PM IST

वाराणसी. इस सावन काशी में बाबा विश्वनाथ के दर्शन को आने वाले श्रद्धालुओं के लिए खास इंतजाम किए जा रहे हैं। ऐसी व्यवस्था जिसे देख और अनुभव कर हर श्रद्धालु बाग-बाग कर उठेगा। किसी को किसी तरह की दिक्कत न हो इसका पूरा और पुख्ता इंतजाम किया जा रहा है। हालांकि यह सब मंदिर प्रशासन द्वारा मंदिर परिक्षेत्र में खरीदे गए भवनों के चलते ही संभव हो सका है। कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने पत्रिका से बातचीत में कहा कि प्रशासन की तरफ से पूरी कोशिश की जा रही है कि दूर दराज से आने वाले श्रद्धालुओं को किसी तरह की परेशानी न उठानी पड़े।

 

ढुंढिराज गणेश से सरस्वती फाटक तक टिन शेड, पंखा, कूलर का इंतजाम

पत्रिका से बातचीत में कमिश्नर ने बताया कि ढुंढिराज गणेश से सरस्वती फाटक तक यानी गेट नंबर एक और गेट नंबर दो से विश्वनाथ मंदिर परिसर तक आने वाले श्रद्धालु न वर्षा में भींग सकें न ही उन्हें धूप का सामना करना पड़े इसके लिए टिन शेड लगवा दिया गया है। नीचे फर्श पर लाल मैटिंग बिछवाई गई है। टिन शेड में पंखे भी लगे हैं। इस रास्ते में जगह-जगह कूलर भी लगाए जा रहे हैं। इतना ही नहीं रास्ते में म्यूजिक सिस्टम भी लगाए जाएंगे जिनसे अनवरत भजन कीर्तन सुनाई देता रहेगा। उन्होंने बताया कि वैसे दशाश्वमेध घाट से मंदिर परिसर तक मैटिंग बिछाई जाएगी।

कतार में भी लाइव बाबा का लाइव दर्शन

उन्होंने बताया कि इसके अलवा गर्भ से बाबा के दर्शन, आरती आदि का लाइव प्रसारण होता रहेगा। सीसीटीवी के माध्यम से कतार में लगे श्रद्धालु अनवरत बाबा का दर्शन करते रहेंगे। उन्होंने बताया कि विकलांग और ऐेसे सीनियर सिटिजन जो चल नहीं सकते उनके लिए सरस्वती फाटक गेट पर रैंप लगाया जा रहा है ताकि वो ह्वील चेयर से मंदिर परिसर तक पहुंच सकें और बाबा का दर्शन कर सकें।

 

500 भक्तों के बैठने का इंतजाम

कमिश्नर ने बताया कि ज्ञानवापी छत्ताद्वार से आने वाले श्रद्धालुओं के बैठने का भी इंतजाम किया गया है ताकि मुख्य रोड पर भीड़ न लग सके। उन्होंने बताया कि हाल ही में विश्वनाथ मंदिर के पीछे यानी छत्ता द्वार से उतर कर मंदिर जाने वाले मार्ग में काफई जगह क्रय की गई थी उसे समतल कर पत्थर लगा कर समतल कर दिया गया है। वहां कुर्सियां लगाई जा रही हैं। वहां पर 500 लोगों के बैठने का इंतजाम किया जा रहा है। इससे श्रद्धालु आराम से बैठ कर अपनी बारी की प्रतीक्षा कर सकेंगे।

उन्होंने बताया कि शौचालय की भी व्यवस्था की जा रही है। मंदिर विस्तारीकरण के तहत हमें जैसे-जैसे जगह मिल रही है, वैसे-वैसे हम भक्तों को सुविधाएं देने के लिए काम तेजी से आगे बढ़ा रहे हैं। यह माना जा रहा है कि इस बार सावन में बाबा के दर्शन करने आने वाले भक्तों को असुविधाओं का सामना नहीं करना पड़ेगा।

Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned