सावन में भी टिकट खरीदकर किजिये काशी विश्वनाथ का वीआईपी दर्शन, जानिये और क्या हैं तैयारियां

काशी विश्वनाथ मंदिर (Kashi Vishwanath Temple) के नवनियुक्त सीईओ गौरांग राठी ने सावन में होने वाली व्यवस्थाओं के बारे में विस्तार से बताया। उनके मुताबिक़ मंदिर परिसर और आसपास के इलाके में सोशल डिस्टेंसिंग और जगह-जगह सेनेटाइजर की व्यवस्था होगी। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए गाइड लाइन का पूरा पालन करते हुए सारी व्यवस्थाएं कि जा रही हैं।

वाराणसी. आगामी 6 जून से शुरू हो रहे सावन को लेकर वाराणसी में तैयारियां शुरू हो गयी हैं। सावन में काशी विश्वनाथ मंदिर (Kashi Vishwanath Temple) में उमड़ने वाली भीड़ के मद्देनजर तैयारियों में श्रद्धालुओं की सहूलियत और सुगमता का खास खयाल रखा जा रहा है। अच्छी बात ये है कि सावन में भी बाबा के दर्शन से लेकर आरती तक के टिकटों की दरों में कोई इज़ाफा नहीं किया गया है। टिकट लेकर सुगमता से बाबा का वीआईपी दर्शन किया जा सकेगा और टिकट से ही आरती भी देखी जा सकेगी।

 

कोरोना संक्रमण और लॉक डाउन के चलते कुछ सावधानियां और एहतियात ज़रूरी कर दिए गए हैं। इसी के साथ ही सावन में मंदिर में प्रवेश के लिये तीन रास्ते होंगे, जबकि सावन के सोमवार को आने जाने के लिये चार रास्ते होंगे। बुज़ुर्ग दर्शनार्थियों के लिये ई रिक्शा का इंतज़ाम होगा। शहर में बाबा की आरती का लाइव प्रसारण किया जाएगा। इसके लिये शहर में नौ स्थानों पर एलईडी स्क्रीन लगाए जाएंगे।

 

काशी विश्वनाथ मंदिर के नवनियुक्त सीईओ गौरांग राठी ने सावन में होने वाली व्यवस्थाओं के बारे में विस्तार से बताया। उनके मुताबिक़ मंदिर परिसर और आसपास के इलाके में सोशल डिस्टेंसिंग और जगह-जगह सेनेटाइजर की व्यवस्था होगी। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए गाइड लाइन का पूरा पालन करते हुए सारी व्यवस्थाएं कि जा रही हैं। सावन में मंदिर आने जाने के लिये रास्ते तय होंगे। सुगम दर्शन के लिए टिकट हेल्प डेस्क से मिलेंगे। भीड़ न हो इसके लिये सुगम दर्शन के बाद दिये जाने वाले प्रसाद के काउंटर भी बढ़ाए जाएंगे।

 

वीआईपी दर्शन के लिए टिकट 300 रुपये ही रहेगी, इसे लेकर सीधे बाबा का दर्शन किया जा सकेगा। आरती के टिकट ऑनलाइन भी खरीदे जा सकेंगे। सीईओ गौरांग राठी ने बताया कि शहर में नौ जगहों पर एलईडी के ज़रिये काशी विश्वनाथ मंदिर के के गर्भ गृह का लाइव प्रसारण कराने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने फिलहाल रिकार्डेड प्रसारण शुरू होने की बात कही। मंदिर के आसपास लगी एलईडी लाइव प्रसारण होगा ताकि लाइन में लगे श्रद्धालु गर्भ गृह में हो रही आरती लाइव देख सकें।

 

ऐसी होगी व्यस्था

तीन ज़ोन में बांटा गया है विश्वनाथ मंदिर से गोदौलिया तक के क्षेत्र।

सावन में प्रवेश और निकास तीन रास्ते।

सावन के सोमवार पर प्रवेश और निकास के लिए चार मार्ग

मंदिर परिक्षेत्र में हर सौ मीटर पर सेनेटाइजेशन और हाथ धोने का इंतज़ाम

रेड जोन में हर दो गज पर पेंट और ग्रीन व यलो जोन में चूने से गोल घेरा बनेगा

मंदिर परिसर व आसपास का परिक्षेत्र हर 6 घंटे पर सैनिटाइज होगा

पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम से जागरूकता संदेश प्रसारित होते रहेंगे।

  • तीन ज़ोन में बांटा गया है विश्वनाथ मंदिर से गोदौलिया तक के क्षेत्र।
  • सावन में प्रवेश और निकास तीन रास्ते।
  • सावन के सोमवार पर प्रवेश और निकास के लिए चार मार्ग
  • मंदिर परिक्षेत्र में हर सौ मीटर पर सेनेटाइजेशन और हाथ धोने का इंतज़ाम
  • रेड जोन में हर दो गज पर पेंट और ग्रीन व यलो जोन में चूने से गोल घेरा बनेगा
  • मंदिर परिसर व आसपास का परिक्षेत्र हर 6 घंटे पर सैनिटाइज होगा
  • पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम से जागरूकता संदेश प्रसारित होते रहेंगे।
coronavirus
Show More
रफतउद्दीन फरीद Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned