अब तो करो शर्म, इटली से आए मेहमानों ने उठा लिया झाड़ू

अब तो करो शर्म, इटली से आए मेहमानों ने उठा लिया झाड़ू
italy student clean road

घूमने आए विदेशियों ने गंदगी देखकर किया ऐसा काम कि खुद पर आ रही थी शर्म

वाराणसी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी यह समाचार पढऩे के बाद अपने संसदीय क्षेत्र के निवासियों के साथ ही बनारस की दुव्र्यवस्था को जिम्मेदार अफसरों पर खीझ आयेगा। रविवार को यह नजारा देखने के बाद खुद रिपोर्टर के भी मन में बेचैनी होने लगी क्योंकि कुछ विदेशी जो दुनिया की सबसे प्राचीन नगरी काशी घूमने आए थे, वे हमारे द्वारा फैलाई गई गंदगी साफ कर रहे थे। कहने में गुरेज नहीं कि विदेशी छात्रों के हाथों में कैमरे के बजाय यदि झाड़ू था तो इसके लिए सीधे तौर पर भाजपा के महापौर से लेकर नगर निगम में कार्यरत बड़े अफसर से लेकर अदना कर्मचारी तक जिम्मेदार हैं। 


दरअसल इन दिनों इटली से 35 छात्रों का दल भारत घूमने आया है और इस समय यह टीम वाराणसी में कुछ दिनों से है। रविवार को इटली से आए छात्र सिगरा इलाके में स्थित भारत माता मंदिर भ्रमण पर आए थे। भारत माता मंदिर परिसर के बाहर सड़क पार चंदुआ सब्जी मंडी है। सड़क पर मंडी लगने के कारण पूरे इलाके में गंदगी का साम्राज्य है। भ्रमण के दौरान जब विदेशी मेहमानों की नाक में दुर्गंध पहुंची तो वे बेहाल हो गए। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान से प्रभावित छात्रों ने जब देखा कि उनके संसदीय क्षेत्र में ही गंदगी का अंबार है तो उन्होंने हाथों में झाड़ू उठा लिया और सड़क पर उतर आए। विदेशी युवाओं को झाड़ू लेकर सड़क पर सफाई करते देख राहगीर भी ठिठक गए। स्थानीय नागरिकों को शर्म तो आई ही साथ ही विदेशी युवाओं से नसीहत भी मिली। 

स्वच्छ भारत अभियान की असली तस्वीर बनारस में ही देखने को मिलती है। काशीवासियों ने नगर निगम को पहले से ही नरक निगम का खिताब दे रखा है। कर्मचारियों व अधिकारियों की लापरवाही के चलते रविवार को विदेशी मेहमानों को हाथों में झाड़्ृ लेकर उतरना पड़ा। वाराणसी में बीजेपी के एक दो नहीं चार-चार विधायक हैं, महापौर भी भाजपा के ही है। बनारस में भाजपाइयों की बड़ी फौज के बाद भी पीएम मोदी का स्वच्छ भारत अभियान उन्हीं के संसदीय क्षेत्र में दम तोड़ रहा है। 

वैसे एक बात यह भी है कि चंद अफसरों को ही कोसने से काम नहीं चलेगा। काशीवासी भी कुछ हद तक गंदगी के लिए जिम्मेदार हैं। जब मन किया घर की खिड़की से सीधे कूड़ा बाहर सड़क पर फेंक देते हैं। सड़कों पर गंदगी करना, यातायात के नियमों का उल्लंघन करना मानो जन्मसिद्ध अधिकार समझते हैं। आज गैर मुल्क से आए मेहमानों को जहां कैमरों से बनारस की शान कैद करने का अवसर था, उनके हाथों में झाड़ू था। शक नहीं कि जब वह अपने देश जाएंगे और इन तस्वीरों को अपने लोगों से साझा करेंगे तो बनारस की क्या छवि लोगों के मन में उभरेगी इससे भी वाकिफ होंगे। अब भी समय है, सुधर जाइए और अपने शहर को सुंदर, स्वच्छ बनाने के लिए योगदान दीजिए। 


खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned