पचास हजार दो नहीं तो शादी के मंडप से बेटी को उठा ले जाऊंगा

पचास हजार दो नहीं तो शादी के मंडप से बेटी को उठा ले जाऊंगा
sub inspector arrested taking bribe

जानिए किसने दी दुल्हन को धमकी और विजलेंस की टीम ने किया रंगे हाथ गिरफ्तार

वाराणसी. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री की पुलिस में भ्रष्टाचार का कीड़ा इस कदर घर कर गया है, रुपयों की भूख ऐसी बढ़ गई है कि मानवता को भी ताख पर रख दिया है। पचास हजार रुपयों की खातिर लड़की को शादी के मंडप से उठाने की धमकी देने वाले दारोगा के प्रताडि़त करने की इंतहा पार होने पर परिजनों ने इसकी शिकायत करने की ठानी। उनकी हिम्मत रंग लाई और जौनपुर के केराकत थाने पर तैनात रिश्वतखोर दारोगा ललित सिंह सोमवार को बनारस में भ्रष्टाचार निवारण विभाग के फैलाए जाल में फंस गया। दारोगा को रिश्वत की रकम लेते विभाग की टीम ने रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। 

अपहरण के एक झूठे मामले में परिजनों से मांग रहा था रिश्वत

भ्रष्टाचार निवारण विभाग के इंस्पेक्टर रामसागर ने बताया कि दो वर्ष पूर्व नीलम सिंह अपनी तीन बेटियों के साथ जौनपुर के केराकत में रह रही थी। उस दौरान पड़ोस के दो युवकों टिंकू व रिंकू ने छेडख़ानी की थी जिसपर नीलम सिंह की बेटियों ने दोनों के खिलाफ मुकदमा कायम कराया था। जमानत पर रिहा होने के बाद आरोपी नीलम सिंह व उनकी बेटियों पर मुकदमा वापस लेने का दबाव बनाने लगे। आए दिन धमकी से परेशान नीलम सिंह बेटियों के साथ वाराणसी के शिवपुर थाना क्षेत्र स्थित कादीपुर में अपने पति के पास चली आईं। इस बीच टिंकू व रिंकू ने नीलम सिंह की बेटियों को फंसाने के लिए नौकरानी की बेटी के अपहरण का आरोप लगाते हुए जौनपुर में अपनी नौकरानी के जरिए मुकदमा कायम कराया। इस मुकदमे की विवेचना केराकत थाने में तैनात दारोगा ललित कुमार सिंह कर रहे थे। 

शादी से एक दिन पहले धमके बनारस

ललित सिंह पहले जौनपुर में रहते हुए फोन के जरिए नीलम सिंह व उनकी बेटियों को प्रताडि़त कर रहे थे। आरोप है कि इस दौरान उन्होंने नीलम सिंह से पचास हजार रुपये की मांग की और धमकी दी कि रुपये नहीं मिले तो दो बेटियों के साथ ही उनकी शादीशुदा बेटी को भी मुकदमे में फंसा देंगे। दारोगा जब मालूम हुआ कि नीलम सिंह की एक बेटी की शादी 26 अप्रैल को है तो उसने रविवार को दोबारा नीलम सिंह को फोन किया और रुपयों की मांग की। परचून की दुकान से इतनी कमाई न होने का हवाला देते हुए नीलम सिंह ने दारोगा से बक्खशने की गुहार लगाई लेकिन उसका दिल नहीं पिघला। धमकी दी कि रुपये नहीं मिले तो तुम्हारी बेटी को शादी के मंडप से उठा ले जाएंगे। यह सुनकर नीलम सिंह का परिवार भयभीत हो गया। पति के साथ वह भ्रष्टाचार निवारण इकाई के इंस्पेक्टर रामसागर से मिलीं। 
 ...और रंगे हाथा धरे गए दारोगा 
इंस्पेक्टर रामसागर के कहने पर नीलम सिंह ने दारोगा को फोन किया और कहा कि सोमवार को बीस हजार रुपये ले लें और बाकी रकम शादी के बाद। दारोगा मान गया। दारोगा के वाराणसी आने की सूचना पर भ्रष्टाचार निवारण की टीम ने नीलम सिंह को केमिकल लगे रुपये थमा दिए। सोमवार को सादे वेश में असलहा लेकर दारोगा ललित सिंह कादीपुर में नीलम सिंह के पति की दुकान पर रिश्वत के रुपये लेने पहुंचे। रुपये गिन ही रहा था कि भ्रष्टाचार निवारण की टीम ने घेर लिया। मौके पर ही दारोगा के हाथ को धुलाया गया जिससे नोट पर लगे केमिकल के चलते उनकी अंगुलियां लाल हो गई। टीम ने दारोगा को गिरफ्तार कर लिया और शिवपुर पुलिस के हवाले करने के बाद दारोगा के खिलाफ थाने में 7 13 एक डी कपटित धारा भ्रष्टाचार अधिनियम 13 (2) के तहत मुकदमा कायम किया। रिश्वतखोर दारोगा को गिरफ्तार करने वाली टीम में  ष्टाचार निवारण विभाग के इंस्पेक्टर रामसागर, इंस्पेक्टर श्रीमती सरोज पांडेय, जीबी जोशी और एसीपी ओमप्रकाश यादव, सिपाही नरेंद्र कुमार सिंह, राजकुमार पाल, पुनीत सिंह थे। 
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned